जम्मू: जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने कठुआ दुष्कर्म एवं हत्या मामले को लेकर कहा कि ऐसी भूमि पर जहां लड़कियों को देवी दुर्गा के अवतार के तौर पर पूजा जाता है, वहां माता के जीवंत रूप के साथ इतनी क्रूरता से सलूक किया गया है.

श्री माता वैष्णो देवी विश्वविद्यालय के छठे दीक्षांत समारोह को संबोधित करते हुए महबूबा मुफ्ती ने कहा कि वह बच्ची मां वैष्णो देवी के बालरूप समान थी. इसी समाज का कोई शख्स उसके साथ ऐसी हरकत कैसे कर सकता है. हमारे समाज में जरूर ही गलत मूल्य घर कर गए हैं.

महबूबा ने कहा कि अपराधियों के इस जघन्य अपराध ने समाज के तौर पर हमें हैरान कर दिया है और इससे पता चलता है कि मोरल वैल्यूज मुश्किलों से घिर गए हैं. कोर्स में मोरल वैल्यूज की एजुकेशन को शामिल करने की पैरवी करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा, ‘अगर हम अच्छे इंसान नहीं बन पाते हैं तो हमारी आर्थिक उन्नति बेमतलब है.’

मुफ्ती ने कहा कि जम्मू के लोगों ने भाईचारे और सांप्रदायिक सौहार्द की भावना को बरकरार रख एक बेहतर उदाहरण प्रस्तुत किया है. मुख्यमंत्री ने कहा, “सरकार इस मामले में कोई राजनीति किए बिना नाबालिग पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए हर संभव प्रयास कर रही है लेकिन कुछ शरारती तत्व गड़बड़ी पैदा करने का प्रयास कर रहे हैं.”

उन्होंने कहा, “पीड़िता को न्याय दिलाने के लिए पूरा देश उठ खड़ा हुआ. कैंडल लाइट और जुलूस निकाले गए. लोगों ने न्याय के लिए आवाज उठाई.” सरकार की जिम्मेदारी है कि वह इस मामले में पीड़िता को न्याय दिलाए.

महबूबा ने कहा कि पूरे देश की निगाहें अब न्यायपालिका पर हैं ताकि इस मामले में त्वरित न्याय प्रदान कर दोषियों को सजा दी जा सके.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें