देश में आरक्षण को लेकर हंगामा बरपा हुआ है. स्वर्ण समाज की और से आरक्षण को समाप्त करने की मांग की जा रही है तो वहीँ अनुसुचिन जाति और अनुसुचिन जनजाति के लोग आरक्षण में किसी भी प्रकार से छेड़छाड़ के खिलाफ है.

इसी बहस में अब आम आदमी पार्टी की विधायक अलका लांबा भी कूद पड़ी हैं. उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर कब तक पंडित जी का बेटा मंदिर में बैठ कर सिर्फ घंटी बजाता रहेगा ?

अलका ने अपने ट्वीट में कहा, ‘जो आरक्षण छुड़ाने की बात कह रहे हैं, मैं उनके साथ हूँ,पर एक और बात इसमें जोड़नी होगी, आरक्षण के साथ साथ उन्हें दूसरों की गलियों में झाड़ू-लगाना, दूसरों का कूड़ा उठाना,दूसरों के लिये गंदे नालों में उतर कर अपनी जान देना भी छुड़ाना होगा. एक दिन सफ़ाई नहीं होती ,सबको नानी याद आ जाती है.

उन्होंने आगे कहा, आरक्षण बिल्कुल ख़त्म होना चाहिये, ताकि सफाई कर्मचारियों की भर्ती में सभी जाती के लोगों को समान हक मिल सके, उन्हें भी इस तरह नालों में उतरने का सौभाग्य मिलना चाहिये, कब तक पंडित जी का बेटा मंदिर में बैठ कर सिर्फ घंटी बजाता रहेगा ?? यह भेद-भाव ख़त्म होना ही चाहिए.

अलका ने कहा, मैं आज भी मानती हूँ कि क्रीमी लेयर को आरक्षण से अब बाहर आ जाना चाहिये, आरक्षण आर्थिक आधार पर कमज़ोर हर व्यक्ति को मिलना चाहिये.
पर जब तक आरक्षण “सामाजिक असमानता” को खत्म नहीं कर देता, तब तक जारी रहना चाहिये, अब यह भेदभाव करने वालों पर निर्भर करता है, नाकी आरक्षण पाने वालों पर.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?