Monday, June 27, 2022

Tajinder bgga case : पुलिस के पीछे पुलिस! चली 18 घंटे की लम्बी फ़िल्मी कहानी, रिहा हुआ बग्गा

- Advertisement -

तजिंदर पाल बग्गा को कल पंजाब पुलिस ने उनके दिल्ली आवास से गिरफ्तार किया था जिसके बाद से यह केस सुर्खियों में है तजिंदर पाल पर मोहाली के सन्नी अहलूवालिया बाधाकु बयान देने, धार्मिक भावनाओं को आहत करने, और नफरत फैलाने का आरोप लगाया था जिसके बाद बीजेपी तेजिंदर बग्गा के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धारा 153-ए, 505 और 506 के तहत केस दर्ज किया गया था जिसके चलते उनकी गिरफ्तारी की गयी थी।

गिरफ़्तारी के बाद 18 घंटे तक लम्बी कहानी चली जिसमे पहले पंजाब पुलिस ने बग्गा को गिरफ्तार किया जिसके बाद बग्गा के पिता ने दिल्ली में जनकपुरी स्टेशन में पहुंच कर पुलिस के मामला दर्ज कराया की जबरन मेरे घर में घुसकर मारपीट की गई, बेटे की जान को खतरा है। अपहरण का मामला दर्ज कराया जाता है। इस मौके पर दिल्ली बीजेपी अध्यक्ष भी उनके साथ थे।

वही दिल्ली से मोहाली ला रहे पुलिस की गाड़ियों को हरियाणा पुलिस दोपहर के वक्त कुरुक्षेत्र में रोक लेती है । जहा कुरुक्षेत्र के पिपली के एक पुलिस स्टेशन में उन्हें ले जाया गया। पंजाब पुलिस को रोकने का कारण हरियाणा पुलिस बताती है की ऐसी सूचना थी कि बग्गा को उनके घर से जबरन उठाया गया है।

इसके बाद पंजाब और हरियाणा हाई कोर्ट में पंजाब सरकार की ओर से अपील की जाती है जिसमे ये कहा जाता है की दिल्ली पुलिस को उन्हें ना सौपा जाए और उन्हें हरियाणा में ही रोका जाए जिसके बाद कोर्ट इस अनुरोध को ठुकरा देती है और बग्गा की ओर से पेश वकील चेतन मित्तल ने पंजाब पुलिस द्वारा भाजपा नेता को गिरफ्तार किए जाने को लेकर सवाल उठाया और पूछा कि राज्य सरकार कैसे हरियाणा के खिलाफ बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर कर सकती है? इस मुद्दे को लेकर आज फिर से सुनवाई होगी।

इसके बाद जब ये भी बताया गया की तेजिंदर बग्गा के पिता की ओर से एफआईआर दर्ज कराई गई है और द्वारका कोर्ट से सर्च वारंट लिया गया। उसके बाद दिल्ली पुलिस बग्गा को लेकर राजधानी लौट आती है मेडिकल कराने के बाद देर रात करीब 12 बजे तेजिंदर पाल बग्गा को द्वारका कोर्ट की मजिस्ट्रेट के गुरुग्राम स्थित घर पेश किया जाता है। जिसके बाद उन्हें रिहा कर दिया जाता।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles