देश में जगह-जगह हो रही मॉब लिंचिंग की घटनाओं पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि इस तरह की एक भी घटना बहुत ही दुर्भाग्यपूर्ण है।  हम सबको राजवीति से ऊपर उठकर समाज में शांति और एकता सुनिश्चित करने की दिशा में काम करना चाहिए।

शनिवार को न्यूज़ एजेंसी ANI को दिए गए इंटरव्यू में मोदी ने कहा, ‘हम ऐसी मानसिकता और कार्यों के खिलाफ हैं। इस तरह की हर घटना दुखद होती है। हर किसी को राजनीति से ऊपर उठकर समाज में शांति और एकता पर ध्यान देना चाहिए।’

राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) मुद्दे को लेकर पीएम मोदी ने कहा, ‘मैं लोगों को भरोसा दिलाना चाहता हूं कि भारत के किसी नागरिक को देश छोड़कर नहीं जाना पड़ेगा। बाकी प्रक्रिया के मुताबिक लोगों को अपने मामलों को सामने रखने का सभी संभावित मौका दिया जाएगा।’ जातिगत आरक्षण को हटाने के सवाल पर प्रधानमंत्री ने कहा, आरक्षण बना रहेगा, इसके बारे में कोई संदेह नहीं हैं।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी द्वारा गुड्स एंड सर्विस टैक्स (GST) को ‘गब्बर सिंह टैक्स’ बताए जाने पर पीएम मोदी ने कहा, ‘गुजरात चुनाव के दौरान कांग्रेस अध्यक्ष ने लोगों को जीएसटी के खिलाफ भड़काने की पूरी कोशिश की, लेकिन लोगों ने उन्हें स्वीकार नहीं किया।’

39uh08ug bidar mob lynching 625x300 18 july 18

विपक्ष के कम नौकरियों के आरोप को नकारते हुए पीएम ने कहा, ‘पिछले एक साल में एक करोड़ से ज्यादा नौकरियां पैदा हुई हैं। इसलिए नौकरियां न होने का प्रचार बंद होना चाहिए।’ उन्होंने आगे कहा, जब देश की इकनॉमी तेजी से बढ़ रही है तो कैसे नौकरियां नहीं बढे़ंगी। जब इंफ्रास्ट्रक्चर प्रोजेक्ट जैसे रोड, रेल लाइन, पॉवर स्टेशन, सोलर पार्क जैसी चीजें लगातार बन रही हैं तो नौकरियां क्यों पैदा नहीं होगी।

विपक्ष के महागठबंधन पर प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, ‘महागठबंधन वंशवाद का है न कि विकास का। सवाल सिर्फ यह है कि यह चुनाव के पहले टूट जाएगा या फिर चुनाव के बाद।’ बीजेपी की सहयोगी पार्टियों का गठबंधन में विश्वास टूटने के सवाल पर पीएम मोदी ने कहा कि इसे हाल के दो घटनाओं से देख सकते हैं। लोक सभा में अविश्वास प्रस्ताव और राज्य सभा उप-सभापति पद का चुनाव।

उन्होंने कहा कि इन घटनाओं से साबित होता है कि कौन सा गठबंधन ज्यादा अखण्ड है और कौन टूट रहा है। सही में देखा जाय तो हमनें उन पार्टियों का भी समर्थन पाया जो हमारे सहयोगी नहीं हैं। बीजेपी ने हाल के वर्षों में लोगों के बीच अपना आधार मजबूत किया है और एनडीए में अधिक सहयोगियों का स्वागत किया है।

Loading...