IT रेड पर PM मोदी बोले- कांग्रेस नेताओं के बक्सों से मिल रहे नोट, कहते हैं ‘चौकीदार चोर है’

महाराष्ट्र के लातूर मे पीएम नरेंद्र मोदी और शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे के साथ एक सभा को संबोधित किया। इस दौरान मोदी ने मध्य प्रदेश में आयकर के छापों पर कांग्रेस पर निशाना साधते आरोप लगाया कि प्रधान विपक्षी दल का ‘भ्रष्टाचार चरित्र’ है। उन्होंने कहा कि वे पिछले छह महीने से कह रहे है, ‘चौकीदार चोर है’ लेकिन देखिए नोट कहां से मिले हैं। चौकीदार से कौन डरता है? अगर इतना पैसा बरामद हो रहा है तो उनका चौकीदार को गाली देना स्वाभाविक है।

प्रधानमंत्री ने कहा, “मध्यप्रदेश में सरकार बने अभी 6 महीने नहीं हुए, लेकिन इनकी कलाकारी देखिए, अरबों-खरबों रुपये की लूट के सबूत मिले हैं। बड़े-बड़े लोगों के बंगलों से करोड़ों का कालाधन इधर से उधर हुआ है। डर के कारण कुछ रागदरबारी, इनके खासमखास वहां पहुंच गए कि पैसे जब्त न हों और दबाव बनाने लगे। भ्रष्टाचार ही वह काम है जो कांग्रेस सत्ता में आने के बाद पूरी ईमानदारी के साथ करती है। कांग्रेस में भ्रष्टाचार ही शिष्टाचार है। आपने देखा होगा कल-परसों, कैसे कांग्रेस के करीबियों के घर से बक्सों में भरे हुए नोट मिल रहे हैं। नोट से वोट खरीदने का ये पाप इनकी राजनीतिक संस्कृति रही है। ये बोलते हैं- चौकीदार चोर है, लेकिन नोट कहां से निकले। असली चोर कौन है?”

कांग्रेस पर बरसते हुए पीएम ने कहा कि कांग्रेस और उसके साथियों की देश विरोधी सोच है। उन्होंने कहा, ‘कांग्रेस ने कहा कि जम्मू-कश्मीर से धारा 370 किसी भी कीमत पर नहीं हटाई जाएगी। जो बात कांग्रेस का ढकोसला पत्र कह रहा है, वही भाषा पाकिस्तान बोल रहा है। कांग्रेस का कहना है कि जम्मू-कश्मीर में अराजकता फैलाने वालों से बातचीत करेंगे, पाकिस्तान भी यही कह रहा ताकि भारत इन्हीं बातों में उलझा रहे। कांग्रेस कह रही है कि हिंसा वाले इलाकों में सेना को मिले विशेष अधिकार वापस ले लेंगे। कांग्रेस ने घोषणा की है कि देश के टुकड़े करने वालों को खुला लाइसेंस देंगे, देशद्रोह का कानून खत्म करेंगे, पाकिस्तान भी यही चाहता है कि भारत के खिलाफ बातें करने वालों को खुली छूट मिल जाए।’

पीएम ने जम्मू-कश्मीर और पाकिस्तान पर की एयर स्ट्राइक पर किए गए सवालों को लेकर कांग्रेस की खूब आलोचना की। उन्होंने कहा, ‘राष्ट्रवाद हमारी प्रेरणा है, अंत्योदय हमारा दर्शन है और सुशासन हमारा मंत्र है। इसी भावना पर नए भारत के निर्माण के लिए हम देश के हर नागरिक की भागीदारी चाहते हैं। एक तरफ हमारी नीति-नियत है, और दूसरी तरफ विरोधियों का दोहरा रवैया है।’

23 सीटों पर चुनाव लड़ रही है शिवसेना 

एनडीए की आलोचना करती रही शिवसेना ने हाल ही में महाराष्ट्र में भाजपा से सीटों के बंटवारे पर समझौता किया है। भाजपा यहां 25 सीटों पर और शिवसेना 23 सीटों पर चुनाव लड़ रही है। राज्य में 48 लोकसभा सीटें हैं। महाराष्ट्र में चार चरणों में 11, 18, 23 और 29 अप्रैल को मतदान होगा। नतीजे 23 मई को घोषित किए जाएंगे।

विज्ञापन