p chin

कांग्रेस के वरिष्‍ठ नेता और पूर्व केंद्रीय वित्त मंत्री पी. चिदंबरम ने नोटबंदी को लेकर कहा, ‘मैं प्रधानमंत्री की तरह बोल सकता हूं और उनका मजाक उड़ा सकता हूं. लेकिन, मैं ऐसा सिर्फ इसलिए नहीं करूंगा क्योंकि वह भारत के प्रधानमंत्री हैं.

उन्होंने आगे कहा, नोटबंदी के ऐलान के वक्त केंद्र सरकार ने जिन उद्देश्यों को पूरा करने का दावा किया था, उसमें से एक में भी सफलता नहीं मिली. उन्होंने इस मसले पर प्रधानमंत्री से माफ़ी की मांग करते हुए कहा कि जिस तरह इंदिरा गांधी ने आपातकाल पर माफी मांगी थी, उसी तरह नरेंद्र मोदी को भी नोटबंदी पर माफी मांग लेनी चाहिए.

चिदंबरम ने कहा कि नोटबंदी से काले धन, भ्रष्टाचार और जाली नोट पर लगाम नहीं लगाया जा सकी.  उन्होंने कहा, ‘नोटबंदी एक ऐसा कदम है जिससे 45 करोड़ लोग भिखारियों जैसे बन गये और मध्यम वर्ग भी 45 दिन से परेशान है.’

उन्होंने कहा कि कालेधन, भ्रष्टाचार, और जाली नोट पर लगाम नहीं लगाई जा सकती है. प्रधानमंत्री ने इसे लेकर कोई भी वाजिब रणनीति नहीं बनाई.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें