भारतीय रेलों के देरी से चलने को लेकर चौतरफा आलोचना झेल रहे केन्द्रीय रेल मंत्री पीयूष गोयल नायक के अमरीश पूरी बन बैठे। दरअसल उन्होने एक पत्रकार को एक दिन का रेल मंत्री बनने का ऑफर दिया है।

दरअसल, प्रेस कांफ्रेंस के दौरान एक पत्रकार रेलवे की समस्याओं को दूर करने के लिए तमाम सुझावों के साथ उनके पास पहुंचा था। जिसके बदले उन्होने पत्रकार को एक दिन के लिए रेल मंत्री बनने का ऑफर दिया।

उन्होंने कहा कि फिल्म नायक की तरह एक दिन आप मेरी जगह लो और खुद नियम-कायदों को लागू करो। गोयल ने बाकायदा रेल बोर्ड चेयरमैन को इस तरह का एक मॉक इवेंट भी आयोजित करने को कहा, ताकि हर किसी का मनोरंजन हो सके।

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

amri

इस दौरान गोयल ने कहा, “अभी रेलवे का फोकस सुरक्षा पर है। हर स्टेशन पर सीसीटीवी कैमरे लगा रहे हैं। अधिक से अधिक कोचों में कैमरे लगाने की कोशिश है।’ ट्रेन देरी से पहुंचने के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि सुरक्षा से जुड़े काम का बैकलॉग विरासत में मिला है। उसे पूरा करने के चलते ट्रेन परिचालन में देरी हो रही है।

रेलवे सुरक्षा कोष से ट्रैक की मरम्मत तेजी से जारी है। ट्रेनों का समय और सिग्नल व्यवस्था सुधारने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया जाएगा। वहीं, रेलवे बोर्ड के चेयरमैन अश्विनी लोहानी ने कहा कि 18 साल में ट्रेनों की संख्या लगभग दोगुना हुई है, लेकिन इस दौरान मूलभूत ढांचों की मरम्मत एवं रखरखाव नहीं हुई। सुरक्षा और मरम्मत के लिए यात्रियों को कुछ तो कीमत चुकानी होगी। भविष्य में इसका फायदा दिखेगा।

Loading...