योगी आदित्यनाथ के यूपी के मुख्यमंत्री पद की शपथ लेने के बाद एनडीए के घटक दल ने खुद को बीजेपी के एजेंडे से दूर कर लिया है. केंद्रीय उपभोक्ता मामले, खाद्य और सार्वजनिक वितरण मंत्री पासवान ने संवाददाताओं से कहा, ‘यह बीजेपी का एजेंडा हो सकता है, हमारा नहीं. हम अल्पसंख्यकों के साथ हैं.’

पासवान ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी चुनाव में राम मन्दिर का जिक्र नहीं किया. हम जीत से खुश हैं मगर चुनाव में सही हिस्सेदारी नहीं मिलने से मायूस भी हैं. उन्होंने कहा, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी अयोध्या में राम मंदिर और जम्मू कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संविधान के अनुच्छेद 370 को समाप्त करने जैसे विवादास्पद मुद्दों पर कुछ नहीं कहा और इसके बजाय उत्तर प्रदेश और दूसरे राज्यों में चुनाव के दौरान भ्रष्टाचार समाप्त करने और विकास के नाम पर वोट मांगे.

पासवान ने कहा कि मोदी ने उत्तर प्रदेश की जनता से गरीबों के सशक्तीकरण, विकास और भ्रष्टाचार उन्मूलन की प्रतिबद्धता जताई है और योगी आदित्यनाथ सरकार को इस दिशा में बढ़ना चाहिए. उन्होंने कहा, ‘राम मंदिर भाजपा का एजेंडा है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने केंद्र सरकार के रुख को भी स्पष्ट करने की कोशिश की और कहा कि हमारा मुद्दा विकास और भ्रष्टाचार का खात्मा है.

Loading...