नई दिल्ली | उत्तर प्रदेश और उत्तराखंड में कांग्रेस की करारी हार के बाद जहाँ पार्टी में आत्म मंथन हो रहा है वही बीजेपी इस जीत से काफी उत्साहित दिख रही है. जहाँ जानकारों का मानना है की आगामी लोकसभा चुनावो में बीजेपी के जहाँ काफी अच्छे आसार है वही कांग्रेस ने अगर अपनी रणनीति नही बदली तो एक बार फिर उनको मुंह की खानी पड़ सकती है. हालाँकि कांग्रेस नेता मणिशंकर अय्यर ने पार्टी में बदलाव की बात कही है.

अय्यर ने यह भी कहा है की आगामी लोकसभा चुनावो में मोदी को रोकने के लिए महागठबंधन बनाना जरुरी है क्योकि अकेले मोदी का सामना करना मूर्खो वाली बात है. अय्यर की बातो का कुछ अन्य विपक्षी दलों ने भी समर्थन किया है. राजद प्रमुख लालू प्रसाद यादव से लेकर वाम मोर्चा के प्रकाश करात, आगामी लोकसभा चुनाव में महागठबंधन के समर्थन में है.

मोदी के खिलाफ विपक्ष के एकजुट होने की खबर पर केन्द्रीय मंत्री विलासराव पासवान ने प्रतिक्रिया दी है. उनका मानना है की विपक्ष मिलकर भी मोदी का सामना नही कर पायेगा. उन्होंने एक कहावत के जरिये पुरे विपक्ष पर निशाना साधा. उन्होंने कहा की सौ लंगड़े मिलकर भी एक पहलवान नही बन सकते. उधर कांग्रेस नेता सीपी जोशी ने कहा की विपक्ष को अपने वोट बंटने से रोकना होगा. राहुल गाँधी की कुछ ऐसा करने की जरुरत है जो सोनिया गाँधी ने 2004 में किया युपीए बनाकर किया था.

सीपी जोशी ने कहा की इन विधानसभा चुनावो में बीजेपी का वोट शेयर , बाकी विपक्षी दलों के वोट शेयर से कम रहा है. इस लिहाज से देखा जाए तो बीजेपी का प्रदर्शन उतना अच्छा नही कहा जा सकता. अगर विपक्ष का वोट शेयर मिला दिया जाए तो बीजेपी को आराम से हराया जा सकता है. मालूम हो की उत्तर प्रदेश में बीजेपी का वोट शेयर 39.7%, बीएसपी का 22.2%, सपा का 21.8% और कांग्रेस का 6.2% है. तीनों गैर-बीजेपी दलों का कुल वोट शेयर 50.2% है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?