चेन्नई | तमिलनाडु में चल रही राजनितिक अस्थिरता अब खत्म होने की कगार पर है. सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद AIADMK प्रमुख और विधायक दल की नेता शशिकला का राजनितिक करियर लगभग समाप्त हो चूका है. अब वो छह साल तक कोई चुनाव नही लड़ पायेगी. इसके अलावा वो किसी भी संवैधनिक पद पर बैठने की योग्यता भी खो चुकी है. वही सुप्रीम कोर्ट के फैसले से पन्नीरसेलवम को संजीवनी बूटी मिल गयी.

अब चूँकि शशिकला को साढ़े तीन साल जेल में बिताने होंगे तो राज्यपाल उनको सरकार बनाने के लिए आमंत्रित नही कर सकते. ऐसे में पन्नीरसेलवम ही राज्य की बागडोर संभालेंगे. सुप्रीम कोर्ट का फैसला आते ही पन्नीरसेलवम समर्थक ख़ुशी से झूम उठे और उनके घर के बाहर इकठ्ठा होने लगे. उधर केन्द्रीय मंत्री वैंकया नायडू ने कोर्ट के फैसले के बाद कहा की अब तमिलनाडु की जनता की मर्जी राज्य में स्थायी सरकार बननी चाहिए.

वही विपक्षी दल DMK ने कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए कहा की यह तमिलनाडु की जनता के लिए बड़ी जीत है, न्याय और सच्चाई की जीत है. DMK नेता एम्के स्टॅलिन ने राज्यपाल से अनुरोध किया है की वो राज्य में स्थायी सरकार बनाने के लिए जल्द दखल दे. शशीकला के दोषी करार होने पर बीजेपी ने भी प्रतिक्रिया दी है. बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्वामी ने इसे न्यायपालिका की जीत बताते हुए कहा की मैं जानता था की कोर्ट का यही फैसला होगा.

उधर पन्नीरसेलवम खेमे ने ट्वीट कर फैसले पर टिप्पणी करते हुए कहा की तमिलनाडु की जनता बच गयी. वही खबर है की शशिकला विधयाको से मिलने गोल्डन बे रिजॉर्ट पहुंची है. उनके साथ उनके भाई दिवाकरन और भतीजे टीटीवी दिनकरभ भी रिजोर्ट पहुंचे. यहाँ वो विधायको से सिग्नेचर ले रही है. हालाँकि अभी इस बात की जानकारी नही मिली है की वो किस कागजात पर विधायक के सिग्नेचर ले रही है. कोर्ट के फैसले के बाद कुछ पुलिस अधिकार भी गोल्डन बे रिजोर्ट पहुंचे है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें