फिल्ममेकर संजय लीला भंसाली पर करणी सेना के हमले को जायज ठहराते हुए केंद्रीय राज्य मंत्री गिरिराज सिंह ने कहा कि चित्तौड़ की रानी पद्मावती हिंदू थीं, इसलिए उनके किरदार के साथ छेड़छाड़ कर फिल्म बनाई जा रही हैं. उन्होंने कहा कि अगर उनमें हिम्मत है तो वह हजरत मोह्म्मद पर फिल्म बना कर दिखाए.

खादी ग्रामोद्योग बोर्ड द्वारा आयोजित एक कार्यक्रम में मीडिया से बातचीत करते हुए उन्होंने कहा कि हिंदू देवी-देवताओं पर पीके जैसी फिल्में बना देते हैं, ये शर्म की बात है ऐसे लोगों को सजा मिलनी चाहिए. अगर पद्मावती हिंदू नहीं होती तो इस तरह की फिल्म बनाने की किसी फिल्मकार की हिम्मत नहीं होती. अगर हिम्मत है तो मोहम्मद साहब पर इस तरह की फिल्म बनाकर दिखाएं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

उन्होंने कहा कि हिंदुओं की सहिष्णुता की छवि का लाभ इस तरह की मानसिकता के लोग उठा रहे हैं. उन्होंने आगे कहा, फिल्म उनके द्वारा बनाई जा रही है जिनके लिए औरंगजेब और उसकी जैसी शख्सियत आइकन हैं. उन्होंने करणी सेना को शाबासी देते हुए कहा कि पद्मावती ने खुद को समाप्त कर लिया, लेकिन आत्मसमर्पण नहीं किया. इसलिए लोगों को निश्चित तौर पर ऐसे लोगों को (फिल्म बनाने वालों को) सजा देनी चाहिए.

गिरिराज सिंह ने बड़ते विरोध को डायवर्ट करने की कोशिश की हैं. हालांकि वे भूल गए हैं कि भंसाली द्वारा निर्मित ‘बाजीराव मस्तानी’ में मस्तानी का किरदार एक मुस्लिम महिला का था. जिसका विरोध मुस्लिम समुदाय ने भी किया था. लेकिन भंसाली के साथ मारपीट नहीं की थी.

Loading...