केंद्रीय मंत्री एम जे अकबर पर लगे यौन उत्पीड़न के आरोपों के बाद उनके इस्तीफे की मांग जोर पकड़ रही है। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहाद-उल-मुसलिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने बुधवार को उन्हें मंत्रिमंडल से हटाए जाने की मांग की।

ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘एम जे अकबर शर्म करिए! और आप तीन तलाक विधेयक पर बहस के दौरान संसद में खड़े होकर मुस्लिम महिलाओं के सशक्तिकरण और उनके उत्पीड़न को रोकने की बात करते हैं?’

उन्होंने एक अन्य ट्वीट में कहा, ‘तीन पत्रकारों ने केंद्रीय मंत्री की असलियत को दुनिया के सामने रख दिया है। मैं प्रधानमंत्री से मांग करता हूं कि इन्हें तुरंत हटाया जाए। हम इंतजार करेंगे कि प्रधानमंत्री इसपर ऐक्शन लेंगे।’ उन्होने कहा, “प्रधानमंत्री कार्यालय अगर सच में बेटी बचाओ में यकीन रखता है तो अपने इस मंत्री को हटाए।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

बता दें कि #MeToo अभियान के तहत यौन शोषण के आरोपों में घिरे विदेश राज्य मंत्री एमजे अकबर पर अब तक 6 महिला पत्रकारों ने गंभीर आरोप लगाए है। इसी बीच सातवीं महिला सामने आई है। जिसने अकबर पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है। समाचार पोर्टल ‘द वायर’ पर महिला पत्रकार गजाला वहाब ने उन पर यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है।

मी टू अभियान में एमजे अकबर का नाम सामने आने के बाद कांग्रेस, सपा समेत तमाम विपक्षी दल भी सरकार पर दबाव बना रहे हैं और एमजे अकबर के इस्तीफे की मांग कर रहे हैं। बता दें कि एमजे अकबर फिलहाल नाइजीरिया में हैं। इस मामले में अब तक न तो सरकार की ओर से और न ही एमजे अकबर की ओर से कोई सफाई दी गई है।

Loading...