बाबरी मस्जिद को लेकर हाल ही में आए शिया धर्मगुरु मौलाना कल्बे सादिक के बयान की कड़ी आलोचना करते हुए ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) एक अध्यक्ष

असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मस्जिद अल्लाह का घर होता है, किसी मौलाना के कहने पर मस्जिद किसी को भी नहीं सौंपी जा सकती.

उन्होंने ट्वीट कर कहा, महज एक मौलाना के कहने पर मस्जिद नहीं दें सकते. उन्होंने कहा कि अल्लाह मस्जिद का मालिक है, न कि मौलाना और एक बार मस्जिद बन गई तो वह हमेशा मस्जिद ही रहेगी. उन्होंने आगे कहा, मस्जिदों का प्रबंधन शिया, सुन्नी, बरेलवी, सूफी, देवबंदी, सलाफी, बोहरी आदि द्वारा किया जाता है, लेकिन इसका अर्थ यह नहीं है कि वह उसके मालिक हैं.

दरअसल रविवार को कल्बे सादिक ने कहा था कि बाबरी केस में  सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुस्लिमों के हक़ में आता है तो उन्हें बाबरी मस्जिद की जमीन राम मंदिर के लिए खुशी-खुशी हिंदुओं को दे देनी चाहिए.

उन्होंने ये भी कहा था कि अगर फैसला मुस्लिमों के खिलाफ आता है, तो उन्हें शांतिपूर्वक से स्वीकार करना चाहिए. याद रहे शिया वक्फ बोर्ड पहले ही इस बाबत सुप्रीम कोर्ट में हलफनामा दाखिल कर चूका है.

मुस्लिम परिवार शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

Loading...

विदेशों में धूम मचा रहा यह एंड्राइड गेम क्या आपने इनस्टॉल किया ?