Thursday, June 30, 2022

SC ने 377 और 497 को असंवैधानिक करार दिया, फिर तीन तलाक़ को अपराध क्यों ?

- Advertisement -

नई दिल्ली: सुप्रीम कोर्ट के एडलटरी यानि व्यभिचार से संबंधित IPC 497 को असंवैधानिक करार दे दिया। इस फैसले काहवाला देते हुए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन के अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने मोदी सरकार द्वारा ट्रिपल तलाक पर लाये अध्यादेश पर सवाल उठा दिये।

ओवैसी ने ट्वीट कर कहा, पहले धारा 377 और अब धारा 497 को गैर-आपराधिक घोषित कर दिया गया लेकिन तीन तलाक कानून में दंड का प्रावधान है। ओवैसी ने कहा, क्या इंसाफ है मित्रों आपका, अब बीजेपी क्या करेगी।

ओवैसी ने तीन तलाक मसले पर कहा, तीन तलाक को अपराध मानना गलत है क्योंकि इस्लाम में निकाह एक करार है। हमारा समाज पितृसत्तात्मक है, फिर महिलाओं की मदद कौन करेगा। जब पति जेल में हो, तो पत्नी उसका इंतजार क्यों करे। सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक को कभी अवैध नहीं ठहराया।

ओवैसी ने कहा है कि यह तीन तलाक का अध्यादेश पूरी तरह मुस्लिम महिलाओं के खिलाफ है। यहां तक कि ओवैसी ने मोदी सरकार के इस फैसले को समानता के मूलभूत अधिकार के खिलाफ बताया। ओवैसी ने आगे कहा कि ट्रिपल तालक अध्यादेश को न्यायालय में चुनौती दी जानी चाहिए क्योंकि यह धोखाधड़ी है। अध्यादेश के पहले पृष्ठ में, सरकार का कहना है कि सुप्रीम कोर्ट ने इसे असंवैधानिक कहा है, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने ऐसी कोई बात नहीं कही। कोर्ट ने कभी इसे अवैध नहीं ठहराया बल्कि उसने बस इसे अलग कर दिया।

ओवैसी ने मांग करते हुए कहा कि सरकार तीन तलाक कानून का आपराधिकरण करने के बजाय उन 24 लाख शादीशुदा महिलाओं के लिए कानून लाए, जिन्हें बिना तलाक दिए उनके पति छोड़ चुके हैं। बता दें कि हमारे देश में महिलाओं का एक बड़ा आंकड़ा ऐसा भी है जिनके पति बिना तलाक दिए छोड़कर अलग हैं और ऐसे मामलों पर कानून मूक है।

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles