owaisi kjdb 621x414@livemint

पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले पर हुए आतंकी हमले के बाद पूरे देश में मुस्लिमों विशेषकर कश्मीरियो पर एक के बाद एक हमले की खबरे सामने आ रही है। ऐसे में अब आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने चिंता जताई है। ओवैसी ने कहा कि कैंडल मार्च की आड़ में मुस्लिम खासतौर पर कश्‍मीरी युवकों को निशाना बनाया जा रहा है।

उन्होने पीएम मोदी से सवाल करते हुए कहा कि ‘कई शहरों में मुस्लिम इलाकों में फैली अफवाहें चिंताजनक हैं। कैंडललाइट मार्च के नाम पर भीड़ मुस्लिमों को निशाना बनाकर कथित तौर पर तनाव पैदा करने की कोशिश कर रही है। इस चुप्पी ने गुजरात को 2002 दिया। क्या पीएमओ इंडिया कश्मीरियों के खिलाफ भीड़ के आतंक पर चुप्पी साधे हुए है? मुझे लगता है, हां।’

Loading...

उन्होने आगे कहा, हालांकि, यह पहला मौका नहीं है, जब ओवैसी ने ऐसा विवादित बयान दिया है। इससे पहले भी वह कई ऐसे बयान दे चुके हैं, लेकिन ऐसे मौके पर शोक में डूबे लोगों को लेकर ये बयान देना उचित नहीं है।

बता दें कि उत्तराखंड और हरियाणा में कश्मीरी छात्रों पर हमले की ख़बरें आई हैं। देहरादून में कश्मीरी छात्रों से बदसलूकी की खबरों के बीच कश्मीर के 300 से अधिक छात्र अपने घर वापस जाने के लिए उत्तराखंड और हरियाणा से मोहाली पहुंचे हैं। एक छात्र संगठन ने पंजाब में इनके रहने का प्रबंध किया है।

उत्तराखंड की राजधानी में पढ़ने वाले कुछ कश्मीरी युवकों ने आरोप लगाया है कि उनके साथ बदसलूकी की गई और उनके मकान मालिकों के उन्हें मकान खाली करने के लिए भी कहा क्योंकि उन्हें (मकान मालिकों) डर था कि छात्रों की वजह से उनकी संपत्ति पर हमला किया जाएगा।

जम्मू-कश्मीर के छात्र संगठन के अध्यक्ष ख्वाजा इतरत ने बताया कि पिछले दो दिनों में करीब 280 छात्र देहरादून से और करीब 30 छात्र हरियाणा के अंबाला जिले से यहां पहुंचे हैं। उन्होंने बताया कि करीब 150 छात्र जम्मू की ओर रवाना हो चुके हैं, जहां से वे कश्मीर घाटी स्थित अपने-अपने घर जाएंगे।

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें