एनएसए अजीत डोवाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच हुई बातचीत के बाद सामने आई लद्दाख में चीनी सेना के आखिरकार पीछे हटने की खबर पर AIMIM चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने केंद्र सरकार से सीधा सवाल पूछा कि पीएमओ के मुताबिक ना कोई घुसा है, ना कोई घुसा हुआ है तो फिर अब पीछे कैसे हट रहे हैं?

ओवैसी ने सवाल उठाते हुए कहा, ‘मेरे तीन सवाल हैं…

1. क्या ‘de-escalation’ का मतलब यह है कि ‘चीन जो चाहता है उसे करने दिया जाए?’

2. प्रधानमंत्री के मुताबिक, ‘न कोई घुसा है, न कोई घुसा हुआ है’ तो फिर डि-एस्केलेशन किस बात का?

3. हम चीन पर भरोसा क्यों कर रहे हैं, उसने तो डि-एस्केलेशन को लेकर 6 जून को भी सहमति जताई थी?

ओवैसी ने ये भी कहा कि पीएमओ के मुताबिक ना कोई घुसा है, ना कोई घुसा हुआ है तो फिर अब पीछे कैसे हट रहे हैं? ओवैसी ने ये भी पूछा कि पीछे हटने का मतलब ये है कि चीन जो करना चाहता है वो उसे करने दिया जाए? हम चीन पर विश्वास क्यों कर रहे हैं, जबकि उसने 6 जून को हुए समझौते का भी उल्लंघन किया था।

बता दें कि पीएम मोदी ने अपने एक बयान में कहा था कि किसी ने भी भारतीय सीमा में घुसपैठ नहीं की है और ना ही किसी चौकी पर कब्जा किया है। पीएम का यह बयान गलवान घाटी में भारत और चीन के सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद आया था। जिसमें सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे।

हालांकि अब सोमवार को खबर आई कि लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा पर भारत और चीन के बीच जारी तनाव के बीच दोनों देशों की सेनाएं पीछे हट रही हैं। चीनी सेना के 15 जून को एलएसी पर झड़प वाली जगह से पेट्रोल पॉइंट 14 से 1.5 से  2 किलोमीटर पीछे हटने की खबर है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन