ओवैसी: नारे न लगाने पर सस्पेंड, इंडिया के इतिहास में पहली बार

मुंबई. विवादित बयान को लेकर चर्चा में आए ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन(एआईएमआईएम) के नेता असदुद्दीन ओवैसी का सपोर्ट करने वाले एक एमएलए वारिस पठान को पार्टी से निलंबित कर दिया गया है.

इस पर तीखा विरोध करते हुए ओवैसी ने कहा है कि इंडिया के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि नारा न लगाने पर किसी को सस्पेंड कर दिया गया. ओवैसी ने कहा कि महाराष्ट्र विधानसभा के बजट सत्र से एआईएमआईएम विधायक वारिस पठान का निलंबन गलत मिसाल पेश करेगा. उन्होंने कहा कि ‘संसद और विधानसभा बहस का पलैटफोर्म देते हैं. जहां नारेबाजी करना गलत है.’

कांग्रेस-एनसीपी पर साधा निशाना
एमएलए को सस्पेंड करने पर ओवैसी ने कांग्रेस और एनसीपी का तीखा विरोध किया. उन्होंने कहा कि हम अंधकार की ओर जा रहे हैं. निलंबन प्रस्ताव का समर्थन करके खुद को सेक्युलर कहने वाले कांग्रेस और एनसीपी भी बेनकाब हो गए हैं.

ओवैसी का विवादित बयान
एक सभा को संबोदित करते हुए ओवैसी ने कहा थी कि वह भारत मां की जय नहीं बोलेंगे. उन्होंने कहा कि मैं भारत में रहूंगा पर भारत माता की जय नहीं बोलूंगा. क्योंकि यह हमारे संविधान में कहीं नहीं लिखा है कि भारत माता की जय बोलना जरूरी है. चाहे तो मेरे गले पर चाकू लगा दीजिए पर भारत माता की जय नहीं बोलूंगा. इसकी आज़ादी मुझे मेरा संविधान देता है. (inkhabar)

विज्ञापन