देश की सर्व्वोच अदालत द्वारा मुस्लिम समुदाय से जुड़े ट्रिपल तलाक के मामले में आये फैसले पर ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के अध्यक्ष और हैदराबाद से सांसद असदुद्दीन ओवैसी की प्रतिक्रिया भी आई है.

ओवैसी ने कहा है कि हमें फैसले का सम्मान करना होगा. हालांकि उन्होंने कहा कि जमीनी स्तर पर इस फैसले को लागू कर पाना एक भीमकाय लक्ष्य होगा. उन्होने कहा कि वो कोर्ट के पैसले का सम्मान करते हैं, लेकिन उनका मानना है कि इस फैसले को लागू करना बहुत चुनौतीपूर्ण है.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ ऑल इण्डिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के महासचिव मौलाना वली रहमानी ने उच्‍चतम न्‍यायालय के फैसले पर किसी तरह की टिप्‍पणी से इनकार करते हुए कहा कि बोर्ड मिल बैठकर आगे का कदम तय करेगा.

इसके अलावा ऑल इण्डिया शिया पर्सनल लॉ बोर्ड के प्रवक्‍ता मौलाना यासूब अब्‍बास ने उच्‍चतम न्‍यायालय के आदेश का स्‍वागत करते हुए कहा कि अब देश में तीन तलाक के नाम पर मुस्लिम महिलाओं के साथ होने वाले अन्‍याय को रोका जा सकेगा.

ऑल इण्डिया मुस्लिम वूमेन पर्सनल लॉ बोर्ड की अध्यक्ष शाइस्‍ता अंबर ने कहा कि सुप्रीम कोर्ट का फैसला मुस्लिम समाज के लिए ऐतिहासिक है. यह देश की मुस्लिम महिलाओं की जीत है, लेकिन उससे भी ज्‍यादा अहम यह है, कि यह इस्‍लाम की जीत है. उम्‍मीद है कि आने वाले वक्‍त में तीन तलाक को हमेशा के लिए खत्‍म कर दिया जाएगा.

Loading...