सुलह-समझौते के नाम पर राम मंदिर निर्माण के लिए बाबरी मस्जिद की जमीन हासिल करने में जुटे आर्ट ऑफ़ लिविंग के संस्थापक श्रीश्री रविशंकर को मुस्लिमों का धमकाना महंगा पड़ सकता है. दरअसल, उनके खिलाफ आईएमआईएम के नेता और सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने FIR दर्ज कराने की बात कही है.

बता दें कि श्रीश्री रविशंकर ने इस मामले को लेकर कहा था कि अगर मुस्लिमों ने बाबरी मस्जिद की जमीन राम मंदिर निर्माण के लिए नहीं सौंपी तो भारत सीरिया बन जायेगा. उन्होंने कहा, ‘यह मामला नहीं सुलझा तो देश सीरिया बन जाएगा. अयोध्या मुस्लिमों का धार्मिक स्थल नहीं है. उन्हें इस धार्मिक स्थल पर अपना दावा छोड़ कर मिसाल पेश करनी चाहिए.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस मामले में अब ओवैसी ने कहा कि उन्हें अपने संविधान पर विश्वास नहीं है. उसे कानून पर विश्वास नहीं है. वह समझता है कि वह खुद ही कानून है. ओवैसी ने रविशंकर को खूब खरी- खोटी सुनाते हुए कहा कि वह खुद को इतना बड़ा मानता है और यह समझता है कि सभी उसे सुनेंगे. वह राम मंदिर-बाबरी मस्जिद मामले में बिल्कुल निष्पक्ष नहीं है. उन्होंने आगे कहा कि अगर बीजेपी श्रीश्री के बयान से सहमत है तो मैं शिकायत करूंगा.

हालांकि अब मामले को उलझता देख श्रीश्री रविशंकर ने अपनी सफाई पेश की है. उन्होंने कहा, उनके बयान को धमकी के रूप में नहीं लेना चाहिए बल्कि सावधान रहना चाहिए. उन्होंने कहा कि मैं सपने में भी नहीं सोच सकता कि किसी को धमकी दूं.

श्रीश्री के बयान पर शिया सेन्ट्रल वक्फ बोर्ड के चेयरमैन सैयद वसीम रिजवी ने भी अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि सीरिया जैसी स्थिति यहां पैदा नहीं हो सकती है. यहां पर बहुत सेक्युलर मुसलमान और सेक्युलर हिंदू रहते हैं.