नागरिकता कानून (CAA) और राष्ट्रीय नागरिक पंजी (NRC) से जुड़े होने के चलते देश भर में नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) का भी तीखा विरोध हो रहा है। कई राज्यों ने नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) को लागू करने से इंकार कर दिया है। ऐसे में सरकार की और से नेशनल पॉपुलेशन रजिस्टर (NPR) में बदलाव की खबर है।

बताया जा रहा है कि इस बार 8 नए सवाल इसमें जोड़े गए हैं. NPR में नाम दर्ज कराने के लिए आपको इस बार अपने माता-पिता का जन्म स्थान और तारीख बतानी होगी। इसके अलावा आधार नंबर, पासपोर्ट नंबर, मोबाइल नंबर, वोटर आईडी कार्ड नंबर, ड्राइविंग लाइसेंस नंबर और मातृभाषा के बारे में भी बताना होगा।

इन बदलावों को लेकर अब AIMIM के सांसद असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) ने सवाल उठाए है। ओवैसी ने ट्वीट किया, ‘NPR नियम केवल विशिष्ट मापदंडों पर डेटा के कलेक्शन की इजाजत देता है, इसमें माता-पिता के जन्म की तारीख और उनका जन्म स्थान शामिल नहीं है। ये बदलाव व्यक्तियों को उनकी नागरिकता के लिए संदिग्ध या वस्तु के रूप में चिह्नित करना आसान बनाता है। अविश्वसनीय मनमानी और ये सब बिना किसी संसदीय निगरानी के हो रहा है।’

गौरतलब है कि जनगणना नियमों के मुताबिक, जनगणना के दौरान जो सवाल आपसे पूछे जाते हैं वह हैं- नाम, पिता का नाम, मां का नाम, लिंग, जन्म की तारीख, जन्म स्थान, वर्तमान पता, विवाहित/अविवाहित होने के बारे में, शरीर पर कोई निशान आदि। अभी तक जनगणना के नियमों में माता-पिता के जन्म की तारीख और जन्म स्थान बताने से जुड़ा कोई सवाल नहीं है।

इसी बीच पश्चिम बंगाल और केरल ने NPR की प्रक्रिया पर अस्थायी तौर पर रोक लगा दी है। कांग्रेस भी इसका विरोध कर रही है, हालांकि कांग्रेस शासित राज्यों में अभी इस प्रक्रिया पर रोक जैसी कोई बात सामने नहीं आई है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन