कश्मीर मुद्दे को लेकर असदुद्दीन ओवैसी ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है. असदुद्दीन ओवैसी का कहना है कि पाकिस्तान कश्मीर मुद्दे को लेकर मध्यस्थता करना बंद करे.

शनिवार को ओवैसी ने कहा कि कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और बना रहेगा. उन्होंने कहा कि केंद्र में चाहे वह कांग्रेस हो या भाजपा, कश्मीर घाटी में हालात सामान्य करने के लिए उनके पास कोई नीति, दूर दृष्टि नहीं रही है. असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि मुझे लगता है कि कश्मीर पर नीति में निरंतरता रहनी चाहिए, लेकिन दुर्भाग्य से उसका अभाव है.

Loading...

एक रिपोर्ट का हवाला देते हुए ओवैसी ने कहा कि भाजपा नीत केंद्र सरकार कश्मीरी पंडितों के लिए कुछ नहीं कर रही है. कश्मीर समस्या का हल जेम्स बॉंड या रैम्बो शैली में नहीं होना चाहिए. पाकिस्तान को कश्मीर मामलों में दखलंदाजी बंद करना चाहिए.

उन्होंने यह भी कहा हाल ही में इस्तीफा देने वाले 2010 बैच के आईएएस अधिकारी शाह फैसल को अपनी खुद की स्वतंत्र राजनीतिक राह चुननी चाहिए. कश्मीर को इसी की जरूरत है. इससे पहले ओवैसी ने पाकिस्तानी प्रधानमंत्री इमरान खान के भारतीय मुस्लिमों पर दिए गए बयान की आलोचना की थी.

उन्होंने ट्विटर पर लिखा ‘पाकिस्तानी संविधान के मुताबिक केवल एक मुस्लिम राष्ट्रपति बनने के लिए योग्य है. भारत में अल्पसंख्यक समुदायों के कई राष्ट्रपति रहे हैं. खान साहब को हमसे समावेशी राजनीति और अल्पसंख्यक अधिकारों के बारे में सीखना चाहिए.’

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें