असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी एआईएमआईएम के विधायकों ने  गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से मुलाकात ने बिहार की राजनीति को गरमा दिया है। इस मुलाक़ात से कुछ ही देर पहले विधानसभा अध्यक्ष विजय कुमार सिन्हा ने भी नीतीश कुमार से मुलाकात की है।

एआईएमआईएम विधायक दल के नेता अख्तरुल ईमान ने कहा कि वह अल्पसंख्यकों के मुद्दे के साथ सीमांचल की समस्याओं और वहां के विकास को लेकर विधायकों के साथ मुख्यमंत्री से मिलने गए थे। गुरुवार को लोजपा विधायक राजकुमार सिंह भी सीएम से मिले। उनका भी यही कहना है कि अपने क्षेत्र के विकास के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री से मुलाकात की।

अख्‍तरूल इमान (Akhtarul Iman)  ने कहा कि सीएम नीतीश को वे हमेशा ये अच्‍छा मुख्‍यमंत्री मानते हैं। भाजपा से तो वे बेहतर हैं ही। सीमाचांल में कटाव कई वर्षों से एक बड़ी समस्या है। कटाव से हजारों लोग विस्थापित हुए हैं। अब तक उनके पुनर्वास की व्यवस्था नहीं हो पाई है। जनप्रतिनिधि होने के नाते हमलोग सीमांचल की समस्या को लेकर मुख्यमंत्री से मिलने गए थे।

गौरतलब है कि इससे पहले जदयू में शामिल हुए बसपा विधायक जमा खां भी अपनी पूर्व की मुलाकातों को क्षेत्र के विकास को लेकर मिलने का बयान दिए थे। वहीं लोजपा के इकलौते विधायक राजकुमार सिंह गुरुवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार से उनके कार्यालय में मुलाकात की। दो दिनों पहले राजकुमार सिंह शिक्षा मंत्री अशोक चौधरी से उनके आ‌वास पर मिले थे।

हालांकि राजकुमार सिंह ने कहा है कि इन मुलाकातों को राजनीतिक दृष्टि से नहीं देखा जाना चाहिए। अपने क्षेत्र के विकास को लेकर वे मुख्यमंत्री से मिले हैं। मुख्यमंत्री ने भी उनके द्वारा उठाए गए विषय पर शीघ्र कार्य का आश्वासन दिया है।