बिहार विधानसभा चुनाव (Bihar assembly election) में पहली बार उतरी हैदराबाद सांसद असदुद्दीन ओवैसी की पार्टी ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) ने पाँच सीटें जीतकर बड़ी कामयाबी हासिल की है। इस कामयाबी से खुश होकर ओवैसी ने पश्चिम बंगाल में भी चुनाव लड़ने का ऐलान कर दिया।

आज तक से बातचीत में AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने अपनी पार्टी की जीत का श्रेय सीमांचल की जनता को दिया। ओवैसी ने कहा कि हमारी स्टेट लीडरशिप और हमारी टीम को भी इस जीत का श्रेय जाता है। ओवैसी ने यह भी कहा कि मैं बंगाल का चुनाव भी लड़ूंगा, क्या करेगा कोई।

महागठबंधन के आरोपों का जवाब देते हुए AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि अगर बिहार में उनकी वजह से महागठबंधन को नुकसान हुआ है, तो फिर मध्य प्रदेश, उत्तर प्रदेश और कर्नाटक में क्यों हार हुई? वहां तो हमारी पार्टी चुनाव नहीं लड़ रही थी।

उन्होंने कहा कि अब नाच न जाने तो आंगन टेढ़ा, कर्नाटक की दो सीट हार गए तो वहां मैं गया था। मध्‍य प्रदेश में हार गए तो क्‍या वहां मेरी पार्टी लड़ी। गुजरात में हार गए तो मैं गया था क्‍या? इन लोगों का एक गुरूर है कि तुम कैसे हो गए हमारे सामने। यही तो जम्‍हूरियत की खूबसूरती है कि हमने उन लोगों की आवाज बनने की कोशिश की जिन्‍हें वह दबा रहे थे।

ओवैसी ने कहा,” आप पांच-पांच टाइम के एमएलए हैं, अब बाढ़ आई तो कह रहे हैं कि यह कटान नहीं, धसान है। तो इसका जवाब तो जनता देगी न। हम तो जनता के बीच लगातार काम कर रहे थे। अब आप नहीं जीत पा रहे हैं तो हर चीज हम पर डाल रहे हैं तो डाल दीजिए, हमें कोई फर्क नहीं पड़ता। ये तो पुराना राग है इनका। जैसे कोई छोटे बच्‍चे के हाथ से चॉकलेट छीन लेता तो वह रोता रहता है मम्‍मी, मम्‍मी और कहता रहता है कि मेरा चॉकलेट छीन लिए।”

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano