Sunday, September 19, 2021

 

 

 

नोट बंदी पर विपक्ष के 200 सांसदों ने संसद परिसर में दिया धरना, राहुल गाँधी ने नोट बंदी को बताया एक बड़ा घोटाला

- Advertisement -
- Advertisement -

live-why-are-afraid-to-debate-spoke-rahul-gandhi-pm-is-a-scam-notbandi

नई दिल्ली | नोट बंदी को लेकर पूरा विपक्ष प्रधानमंत्री मोदी के संसद में मौजूद रहने की मांग कर रहा है. इसको लेकर विपक्ष रोज नए नए हथकंडे अपना रहा है. 16 नवम्बर से संसद का शीत सत्र शुरू हुआ है. केवल एक दिन को छोड़कर अभी तक संसद में कोई काम नही हुआ है. बुधवार को भी राज्यसभा और लोकसभा का सत्र हंगामे के साथ शुरू हुआ.

सदन में लगातार हो रहे हंगामे के बाद राज्यसभा को 2 बजे के लिए वही लोकसभा को गुरुवार तक के लिए स्थगित कर दिया गया. उधर विपक्ष के लगभग 12 दलों के 200 सांसदों ने आज संसद परिसर में धरना दिया. इस दौरान सांसदों ने मोदी विरोध के नारे लगाये. विपक्ष मांग कर रहा है की प्रधानमंत्री मोदी संसद में बहस के दौरान मौजूद रहे और सभी नेताओ की बात सुने.

संसद के बाहर धरने पर बैठे सांसदों की अगुवाई कांग्रेस उपाध्यक्ष राहुल गाँधी कर रहे थे. विरोध प्रदर्शनों के बीच राहुल गाँधी ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा की जिस तरह से यह फैसला लिया गया उससे एक बड़े घोटाले की बू आ रही है. बिना वित्त मंत्री को बताये इस फैसले की घोषणा कर देना , मंशा पर सवाल खड़े करता है. इसलिए हम मोदी जी से संसद में मौजूद रहने की मांग कर रहे है.

राहुल गाँधी ने आगे कहा की जब मोदी जी टीवी पर बोल सकते है, नाच गाने के बीच बोल सकते है तो संसद में क्यों नही. मोदी जी संसद में आये, सभी नेताओं की बात सुने और अपना जवाब दे. वो संसद में आने से क्यों डर रहे है? वैसे विपक्ष ने धरना देने की योजना सोमवार को ही बना ली थी. सोमवार को इसके लिए बैठक की गयी और विरोध के कुछ नारों का भी चयन किया गया.

इसके अलावा कांग्रेस ने राष्ट्रपति से मिलने का भी समय माँगा है. खबर है की कांग्रेस ,राहुल गाँधी की अगुवाई में राष्ट्रपति भवन तक मार्च करेगी . इसके बाद कांग्रेस का प्रधानमंत्री आवास तक भी मार्च करने की योजना है. उधर बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी आज जंतर मन्तर पर प्रदर्शन करेगी. इसमें कौन कौन से दल शामिल होंगे अभी इसकी जानकारी नही मिली है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles