यूपीए सरकार में वित्त मंत्री रहे पी चिदंबरम ने नोटबंदी को अब तक का सबसे बड़ा घोटाला करार देते हुए कहा कि इसके कारण देश की GDP को 1.5 लाख करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है.

उन्होंने कि कहा कि नोटबंदी की वजह से 2016-17 में देश की आर्थिक वृद्धि दर 6-6.5 प्रतिशत रहने का अनुमान है जो कि सीएसओ व आरबीआई के पूर्वानुमानों से कहीं कम है. उन्होंने कहा, ‘मुझे यह अनुमान लगाते हुए खेद है कि 2016-17 में वृद्धि दर 6 से 6.5 प्रतिशत के बीच रहेगी, जोकि पूर्व के अनुमान से ठीक एक प्रतिशत कम है. इसका मतलब है जीडीपी पर 1.5 लाख करोड़ रुपये की चोट. इस साल जीडीपी 150 लाख करोड़ रुपये है इसमें एक प्रतिशत चोट का मतलब है 1.5 लाख करोड़ रुपये का नुकसान.’

चिदंबरम ने पीएम मोदी पर निशाना साधते हुए कहा, किसी के दिमाग में विचार आया और उसने टेलीविजन पर नोटबंदी की घोषणा कर दी जिससे (जीडीपी को) 1.5 लाख करोड़ रुपये की चोट लगी. देर सवेर सरकार को नोटबंदी की ‘नादानी’ का भान होगा.’

इसी के साथ उन्होंने कहा, मोदी सरकार के शासनकाल में  न सिर्फ दलित और अल्पसंख्यक, बल्कि मीडिया भी केंद्र की दबाव और खौफ के साये में जी रहा है. उन्होंने कहा, ‘दलित खौफ में जी रहे हैं, अल्पसंख्यक खौफ में जी रहे हैं, छात्र और विश्वविद्यालय खौफ में जी रहे हैं। मीडिया भी खौफ के साये में जी रहा है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें