हैदराबाद (भाषा): एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी ने कांग्रेस और भाजपा पर देश की विविधता को प्रतिबिंबित नहीं कर पाने का आरोप लगाते हुए बुधवार को कहा कि अगले लोकसभा चुनाव के बाद केंद्र में क्षेत्रीय दलों की गैर-कांग्रेस, गैर-भाजपा सरकार सत्ता में आनी चाहिए।

ओवैसी ने कहा कि भारत की राजनीति दो ध्रुवीय नहीं हो सकती है। उन्होंने दावा किया कि देश की विविधता भाजपा और कांग्रेस द्वारा प्रतिबिंबित नहीं हो रही है। उन्होंने कहा, “निश्चित रूप से, मेरा मानना ​​है कि इस देश में एक गैर-कांग्रेस, गैर-भाजपा सरकार की जरूरत है।’’

उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस और भाजपा शासन चलाने, संघवाद और उनके वादे के हर पहलू को पूरा करने में सक्षम नहीं हैं। ओवैसी ने कहा, “इसलिए, निश्चित रूप से चुनाव परिणाम आने के बाद, मेरा मानना ​​है कि हमारे इस महान राष्ट्र का अगला प्रधानमंत्री कौन होगा, यह तय करने में क्षेत्रीय दल एक बहुत ही महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगे।”

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

साथ ही ओवैसी ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ‘निजाम’ वाले बयानको लेकर बुधवार को एक बार फिर उन पर निशाना साधा। उन्होंने कहा कि भारतीय मुसलमानों ने मोहम्मद अली जिन्ना के दो देशों के सिद्धांत को खारिज कर दिया था और वह ‘अपनी मर्जी’ से इस देश के नागरिक हैं।

bjp congress1 620x400

हैदराबाद प्रेस क्लब में ओवैसी ने संवाददाताओं से कहा,‘मैं नंबर एक नागरिक हूं। मैं जन्म से भारत का नागरिक हूं, बराबर का नागरिक हूं, कहीं बाहर से आकर नहीं रह रहा हूं।’ उन्होंने कहा कि योगी के विपरीत वह अपनी पसंद से भारत के नागरिक हैं।

एआईएमआईएम प्रमुख ने कहा, ‘हमने (भारतीय मुसलमान) जिन्ना के सिद्धांत को खारिज किया था। हम हमेशा स्वीकार करते हैं कि भारत हमारा वतन है। आप हमारे साथ दूसरे दर्जे के नागरिकों की तरह नहीं पेश आ सकते। भाजपा की विचारधारा मुस्लिमों के साथ बराबर के नागरिकों की तरह पेश आने की नहीं बल्कि गैर बराबरी वाले नागरिकों की तरह व्यवहार करने की है।’

Loading...