नई दिल्ली. केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार (Narendra Modi Government) के दूसरे कार्यकाल का पहला साल पूरा होने पर गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को राष्ट्रीय नागरिकता रजिस्टर (NRC) पर सरकार के मौजूदा रुख के बारे में बातचीत की।

उन्होने कहा, एनआरसी अभी तक नहीं आया है और इसे लाने की कोई बात नहीं है। अभी सीएए लेकर आए हैं एनआरसी जब लाएंगे तब इस पर चर्चा करेंगे। गृह मंत्री ने कहा कि अभी सीएए को लेकर जो भ्रांति फैलाई गई है, उसको हम ढंग से इस देश के अल्पसंख्यकों को बताना चाहते हैं।

सीएए से जुड़े विरोध प्रदर्शनों को लेकर उन्होने कहा कि सीएए को लेकर लोगों के बीच में जानबूझकर भ्रांति पैदा कर दी गई कि सीएए से लोगों की नागरिकता जाने वाली है। गृह मंत्री ने कहा कि मैं देश भर के मुसलमान भाइयों- बहनों से कहना चाहता हूं कि सीएए के अंदर एक भी ऐसा प्रावधान नहीं है जो किसी की नागरिकता ले ले।

गृह मंत्री ने कहा कि जब मैंने राज्यसभा में भाषण दिया तो कपिल सिब्बल, आनंद शर्मा और गुलाम नबी आजाद ने भी इस बात को स्वीकार किया कि हम नहीं कहते कि इससे नागरिकता जाएगी लेकिन फिर भी उनकी पार्टी की अध्यक्षा रामलीला मैदान में क्यों ऐसा बोलीं कि ये लोगों के अस्तित्व की लड़ाई है, सड़कों पर आ जाइये। क्यों लोगों को उकसाया गया।

गृह मंत्री ने कहा मगर ये सब लंबा नहीं चलता है हमने भी अपनी बातों को रखा, संसद में भी इस पर कई बार चर्चा हुई है और धीरे-धीरे ये बात नीचे तक पहुंची है कि सीएए से किसी की भी नागरिकता नहीं जाने वाली है और इसे गलत तरीके से लोगों के सामने रखा गया है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन