भारत में दूसरे सबसे बड़े राष्ट्रीयकृत बैंक पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई स्थित एक शाखा में करीब 1.8 अरब अमेरिकी डॉलर का घोटाला कर देश छोड़कर फरार होने वाले नीरव मोदी को लेकर राजनीति शुरू हो चुकी है.

हीरा कारोबारी नीरव मोदी से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की नजदीकियों का आरोप लगाते हुए कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने कहा कि नीरव को पीएम मोदी को गले लगाने का फायदा मिला. उन्होंने आरोप लगाया कि पीएम मोदी और नीरव मोदी की दावोस में मुलाक़ात हुई थी.

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि नीरव मोदी का भारत को लूटने का तरीका – पहले पीएम मोदी को गले लगाया और उसके बाद पीएम के साथ दावोस में दिखाई दिया. उस प्रभाव का इस्तेमाल करके पहले 12,000 करोड़ रुपए लूटे और दूसरा माल्या की तरह देश से भागने में सफल रहे, जबकि सरकार दूसरे रास्ता देख रही थी. एक मोदी से दूसरा मोदी.

वहीँ कांग्रेस के नेता रणदीप सुरजेवाला ने कहा- नीरव मोदी कौन हैं? क्या यह नया मोदीस्कैम है। क्या उसे भी ललित मोदी और विजय माल्या की तरह सरकार के किसी व्यक्ति ने सूचना दी थी ताकि वह लोगों के पैसों को लेकर विदेश भाग सके? इसका जिम्मेदार कौन है?

प्राप्त जानकारी के अनुसार, पीएनबी से नीरव मोदी ने 2000 करोड़ और मेहुल चौकसी ने 9000 करोड़ रूपये लिए थे. ये दोनों विदेशों से कच्चा हीरा आयात करते थे. पंजाब नेशनल बैकं के दो अधिकारियों की मिलीभगत से नीरव मोदी और उनके सहयोगियो ने साल 2017 में  विदेश से सामान मंगाने के नाम पर बैंकिंग सिस्टम में जानकारी डाले बिना ही आठ एलओयू जारी करवा दिए, जिससे बैंक को 280 करोड रुपये से ज्यादा का नुकसान हुआ. हालांकि ये पूरा घोटाला 11 हजार 500 करोड़ का है.

नीरव मोदी दुनिया की डायमंड कैपिटल कहे जाने बेल्जियम के एंटवर्प शहर के मशहूर डायमंड ब्रोकर परिवार से ताल्लुक रखते हैं. नीरव की दो कंपनियां हैं. पहला हीरो का कारोबार करने वाली कंपनी फायरस्टार डायमंड और दूसरा ब्रांड नीरव मोदी. इसके अलावा नीरव मोदी के साथ साथ मेहुल चौकसी भी घोटाले में आरोपी हैं. जो ज्वेलरी कंपनी गीतांजलि के मालिक है.

Loading...

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें