kejriwal_650x400_41458061775

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने रविवार को लखनऊ में नोट बंदी के विरोध में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी पर गंभीर आरोप लगाया हैं. उन्होंने कहा कि प्रधानमन्त्री ने सहारा और बिड़ला से रिश्‍वत ली है.

केजरीवाल ने कहा, मैं मोदी का आलोचक हूं, लेकिन मैं उन्हें ईमानदार समझता था. लेकिन कुछ ऐसे पेपर मेरे हाथ लगे तो मेरे रोंगटे खड़े हो गए. उन्होंने कहा, 15 अक्टूबर 2013 को बिड़ला के यहां रेड हुई तो कंप्यूटर और जरूरी कागजात उठा लाए. इनकम टैक्स के पास एक कागज है, जिसमें लिखा है मोदी को 25 करोड़ देने थे. 12 करोड़ दिए हैं, 13 करोड़ देने हैं. मोदी जी उस समय गुजरात के सीएम थे. दो साल से पीएम हैं, लेकिन जांच नहीं कराई.

उन्होंने आगे कहा, 22 नवंबर 2014 को सहारा के यहां इनकम टैक्स की रेड हुई, जिसमें 130 करोड़ मिले. कुछ कागज भी मिले. इसमें इनकम टैक्स के अधिकारी और गवाह के दस्तखत हैं. इसमें लिखा है सहारा ने जायसवाल के माध्यम से 30 अक्टूबर 2013 को ढाई करोड़ रूपए मोदी को दिए गए. इस तरह से सात इंट्री के माध्‍यम से 40 करोड़ 10 लाख रुपए मोदी को मिले हैं। 2 साल से पीएम हैं, लेकिन जांच नहीं होने दी.

केजरीवाल ने आगे कहा कि अगर मोदी ने बिड़ला और सहारा से रिश्वत ली थी. इसका मतलब है कि मोदी ने माल्या से रिश्वत ली थी. हम लोगों को लाइन में लगा दिया और खुद रिश्वत खा रहे हैं. इसके साथ ही उन्होंने कहा, अभी गुजरात से महेश गिरफ्तार हुआ, 13 हजार करोड़ उसके खाते में थे. वो कह रहा था इनकम टैक्स वालों को बताऊंगा. लेकिन एक महीने बाद भी इनकम टैक्स वाले पूछ नहीं पाए. उसमें अरबपतियों का पैसा है, लेकिन वह मोदी के दोस्त हैं.

नोटबंदी को लेकर उन्होंने कहा, बड़े पैमाने पर कर्ज वापस नहीं मिलने से बैंकों के कंगाल होने पर मोदी और शाह ने ‘नोटबंदी’ का षड्यंत्र रचा और सबसे पहले अपना, बीजेपी नेताओं और करीबी उद्योगपतियों का धन ठिकाने लगवाया. मोदी के नोटबंदी के फैसले से देश गरीब हो गया और काले धन वालों का धन बढ़ता जा रहा है.


शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें