Friday, July 1, 2022

कश्मीर घाटी में बीजेपी ने कुछ यूं की जीत दर्ज – सिर्फ पड़े 9 वोट और मिले 8 वोट

- Advertisement -

श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर के स्थानीय निकाय चुनाव में बीजेपी को इस बार घाटी में अप्रत्याशित जीत मिली है। ये जीत PDP और NCP जैसी स्थानीय पार्टियों के चुनाव के बहिष्कार की वजह से हासिल हुई है। बीजेपी ने दक्षिण कश्मीर के चार जिलों में क्लीन स्वीप किया है।

कश्मीर के शोपियां, कुलगाम, पुलवामा और अनंतनाग जिलों में बीजेपी ने निकाय की सीट पर जीत हासिल की है। बीजेपी को शोपियां के 12 वॉर्डों में विजय मिली है, जबकि 5 वॉर्ड में नामांकन ना होने के कारण किसी भी प्रत्याशी का चयन नहीं हो सका है। इसके अलावा काजीगुंड नगर निकाय के चुनाव में बीजेपी ने 7 में से चार सीट जीतकर बहुमत हासिल किया है। साथ साथ पहलगाम नगर निकाय की 13 में से 7 सीटों पर बीजेपी प्रत्याशियों की जीत हुई है। पहलगाम की शेष 6 सीटों पर कोई नामांकन ना होने के कारण यहां के प्रतिनिधियों का चुनाव नहीं हो सका है।

बता दें कि जम्मू-कश्मीर में इस बार 13 वर्ष बाद स्थानीय निकाय चुनाव संपन्न कराए गए थे। चार चरणों में हुए चुनाव के लिए आखिरी चरण की वोटिंग 16 अक्टूबर को संपन्न हुई थी, जहां घाटी में सिर्फ 4.2 फीसदी लोगों ने ही अपने वोट डाले थे। इससे पूर्व आठ अक्टूबर को पहले चरण में 83 वार्डों के लिए 8.3 प्रतिशत मतदान हुआ था। वहीं 10 अक्टूबर को हुए दूसरे चरण में 3.4 प्रतिशत और 13 अक्टूबर को हुए तीसरे चरण के नगर निकाय चुनाव में भी महज 3.49 प्रतिशत वोटिंग हुई थी।

दिलचस्प वोटिंग और जीत

शंकरपोरा से भाजपा उम्मीदवार बशीर अहमद मीर ने श्रीनगर नगर निगम (एसमसी) चुनाव में महज सात वोटों के अंतर से पार्षद चुने गए। आठ अक्टूबर को शहर के बाहरी इलाके में शंकरपोरा वार्ड में केवल नौ वोट ही पड़े। मीर अपनी जीत को लेकर इतने आश्वस्त थे कि उन्होंने मतदान समाप्त होने के तुरंत बाद शंकरपोरा मतदान केंद्र पर अपनी जीत की घोषणा कर दी थी।

उन्होने पत्रकारों से कहा, ‘‘वार्ड में कुल नौ वोट पड़े, जिनमें से मुझे आठ वोट मिले। मेरे विपक्षी उम्मीदवार को केवल एक वोट मिला।’

- Advertisement -

Hot Topics

Related Articles