Monday, June 14, 2021

 

 

 

किसी भी यकीन कर लेना लेकिन निक्कर वालो का कभी नही- अभय चौटाला

- Advertisement -
- Advertisement -

जगादरी | इनलो नेता अभय चौटाला ने आरएसएस पर कड़ा हमला बोलते हुए कहा है की चौधरी देवीलाल कह गए थे की जिन्दगी में किसी का भी यकीन कर लेना लेकिन इन निक्कर वालो पर कभी भरोसा नही करना. अभय चौटाला ने अम्बाला में एक जनसभा को संबोधित करते हुए ये बाते कही. उन्होंने एसवाईएल पर केंद्र और राज्य सरकार को चेताते हुए कहा जल्द ही एसवाईएल नहर की खुदाई शुरू होनी चाहिए.

इनलो नेता अभय चौटाला ने बुधवार को ,जगादरी और अम्बाला के लखनौर साहब गाँव में एक जनसभा को संबोधित किया. अभय ने एसवाईएल के मुद्दे पर मोदी सरकार और प्रदेश सरकार को घेरते हुए कहा की हरियाणा को उसका हक़ नही दिया जा रहा है. एसवाईएल पर सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद, अभी तक मुख्यमंत्री खट्टर मोदी से मिलने का समय नही निकाल पाए है.

अभय चौटाला ने आगे कहा की चौधरी बंसी लाल हरियाणा को अलग राज्य बनाने के खिलाफ थे. वो जानते थे की हरियाणा को उसका हक़ नही मिलेगा. बंटवारे से लेकर अब तक हमारे साथ धोखा ही हुआ है. एसवाईएल का पानी हमारे लिए जीने मरने का सवाल बन चूका है. क्योकि अगर यह पानी हमें नही मिलता है तो पीने के पानी की भी समस्या खडी हो जाएगी.

अभय चौटाला ने मोदी और खट्टर सरकार पर वादा खिलाफी करने का आरोप लगाते हुए कहा की चौधरी देवीलाल कहते थे की इन चड्ढी वालो का कभी भरोसा नही करना. इन पर भरोसा करोगे तो मारे जाओगे. इसलिए हम एसवाईएल के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी से मुलाकात करेंगे. इसके लिए हम पहले भी उनको पत्र लिख चुके है. अगर प्रधानमंत्री हमसे नही मिलते तो हम जंतर मंतर पर धरना देंगे.

अभय चौटाला ने मोदी सरकार को धमकी देते हुए कहा की अगर हमें एसवाईएल का पानी नही मिला तो हम दिल्ली को चारो और से बंद कर देंगे. और मजबूर होकर दिल्ली में बैठी सरकार को नहर की खुदाई शुरू करवानी होगी. अभय चौटाला ने लोगो को यह भी बताया की वो 23 फरवरी से एसवाईएल नहर की खुदाई खुद शुरू कर रहे है.

अभय चौटाला ने लोगो से अपील की , की वो नहर की खुदाई में ज्यादा से ज्यादा संख्या में भाग ले. उस दिन न केवल एसवाईएल की खुदाई शुरू करेंगे बल्कि बीजेपी और कांग्रेस की जड़े भी खोद देंगे. अभय चौटाला ने कहा की हम भीख नही बल्कि अपना हक़ मांग रहे है. अगर इस दौरान कानून व्यवस्था बिगडती है तो इसके लिए केंद्र और राज्य सरकार जिम्मेदार होंगे.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles