नई दिल्ली। पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी द्वारा राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) के कार्यक्रम का न्योता स्वीकार कर लिया है. वह नागपुर में आरएसएस के कार्यकर्ताओं को संबोधित करेंगे. वे संघ के शैक्षिक पाठ्यक्रम का तृतीय शिक्षा वर्ग पास करने वाले ही पूर्णकालिक प्रचारक को संबोधित करेंगे.

हालांकि कांग्रेस के कुछ वरिष्ठ नेता पहले ही इस कार्यक्रम में उनके शामिल होने पर ऐतराज जता चुके हैं. अब पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा है की प्रणब मुखर्जी को किसी सूरत में RSS के कार्यक्रम में नहीं जाना चाहिए.

रमेश ने कहा कि प्रणब मुखर्जी जैसे विद्वान और सेकुलर आदमी को RSS के साथ किसी तरह की नजदीकी नहीं दिखानी चाहिए. उनके कार्यक्रम में जाने का देश के सेकुलर माहौल पर बहुत गलत असर पड़ेगा.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

वहीँ वरिष्ठ कांग्रेस नेता पी चिदंबरम ने कहा कि प्रणब दा को आरएसएस के कार्यक्रम में जाना चाहिए, लेकिन इसके लिए उनकी आरजु है. चिदंबरम ने कहा कि मुखर्जी को बताना चाहिए कि आरएसएस की विचारधारा में क्या खामी है.

उन्होंने कहा, “अब जब उन्होंने निमंत्रण स्वीकार कर लिया है तो इस तर्क करने का कोई फायदा नहीं कि उन्होंने ऐसा क्यों किया, इससे ज्यादा बड़ा मसला ये है कि सर आपने निमंत्रण स्वीकार कर लिया तो कृपया वहां चाहिए और उन्हें कहिए कि उनकी विचारधारा में क्या खामी है.”

ऐसे में अब प्रणब मुखर्जी ने पहली बार अपनी चुप्पी तोड़ी है. उन्होंने कहा, “जो भी मुझे कहना है, मैं नागपुर में कहूंगा, मुझे कई पत्र मिले हैं, कई कॉल आए हैं, लेकिन मैंने अबतक किसी को जवाब नहीं दिया है.”

Loading...