farooq 2018031716530878 650x

जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम फारूक अब्दुल्ला ने शनिवार (17 मार्च) को नई दिल्ली में एक कार्यक्रम के दौरान कहा कि जम्मू-कश्मीर भारत का अंग है और कश्मीर में एक दिन अमन जरूर आएगा. साथ ही उन्होंने कहा, पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर को भारत अब कभी दोबारा हासिल नहीं कर सकेगा.

फारूक अब्दुल्ला ने कहा कि कश्मीर में एक दिन अमन जरूर आएगा. लेकिन ऐसा कब होगा ये सिर्फ परवरदिगार (अल्लाह) जानता है. उन्होंने कहा कि शांति का एकमात्र रास्ता है कि भारत-पाकिस्तान आपस में बात करे, तभी घुसपैठ रुकेगी. फारूख का कहना है कि भारत-पाकिस्तान के बीच बिना बातचीत के कश्मीर में अमन संभव नहीं है.

इस दौरान पूर्व सीएम ने कहा कि वह मुस्लिम हैं पर पता नहीं क्यों उन्हें राम बेहद से लगाव है. उन्होंने कहा, ”मैं मुसलमान हूं, पर न जानें क्यों मुझे राम से बहुत लगाव है,” कार्यक्रम में उन्होंने एक भजन भी गुनगुनाया. भजन के बोल कुछ तरह हैं. “मोरे राम…जिस गली गयो मोरे राम, जिस गली गयो मोरे राम, मोरा आंगन, सुना-सुना, जिस गली गयो मोर राम, मोरे श्याम, जिस गली गयो मोरे राम, सखी-सखी ढूंढो कहां गयो मोरे राम.”

साथ ही उन्होंने ये भी  कहा कि मुस्लिम उन्हें हिन्दू समझते हैं और हिन्दू मुसलमान. लेकिन मेरे जीवन का मंत्र ‘जियो और जियो देने’ का है. उन्होंने कहा कि देश की शांति में ही देश की तरक्‍की है और हम दिल से चाहते हैं कि देश के हर प्रांत में शांति हो. मौजूदा राजनीति पर प्रतिक्रिया देते हुए उन्होंने कहा कि बांटने की राजनीति से देश को बचाने की जरूरत है.

कश्मीरी पंडितों को लेकर उन्होंने कहा कि कश्मीरी पंडितों की वापसी जम्मू कश्मीर में होगी. साथ ही अब्दुल्ला ने पाकिस्तान को एक बीमार मुल्क मानने से भी इनकार कर दिया. अब्दुल्ला ने कहा कि पाकिस्तान की सेना बीमार है लेकिन आपको ये जानना चाहिए कि हर पाकिस्तानी भारतीयों से नफरत नहीं करता, बहुत से ऐसे पाकिस्तानी हैं जो भारत से प्यार करते हैं.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें