आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के अध्यक्ष और लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी ने मुस्लिमों के लिए आरक्षण की मांग करते हुए कहा कि देश के मुसलमानों पर दलितों की तरह जुल्म हो रहे है. ऐसे में उन्हें भी आरक्षण दिया जाना चाहिए.

ओवैसी ने कहा कि देश में केवल हिंदू वोट बैंक है, मुस्लिम वोटबैंक नहीं है. धर्म-जाति के नाम पर चुनाव होते रहे हैं. राजनीति में हर समुदाय को तवज्‍जो मिलनी चाहिए. कांग्रेस, बीजेपी ने मुसलमानों का साथ नहीं दिया. उन्‍होंने बीजेपी पर आरोप लगाते हुए कहा कि यह पार्टी नहीं चाहती कि मुसलमान मुख्‍यधारा में आए. आखिर बीजेपी की तरफ से कोई मुस्लिम सांसद क्‍यों नहीं है?

अररिया उपचुनाव में राजद प्रत्‍याशी के जीतने पर कथित तौर पर पाकिस्‍तान समर्थक नारे लगाए जाने संबंधी सवाल पर असदुद्दीन ओवैसी ने कहा कि इस तरह की वीडियो की जांच होनी चाहिए. देश विरोधी नारे लगाने वालों को गिरफ्तार किया जाना चाहिए. हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि जेएनयू में भी इस तरह के नारे लगाए जाने की बात कही गई थी लेकिन अभी तक कुछ हाथ नहीं लगा. उन्‍होंने सवाल उठाया कि आखिर मुसलमानों पर शक क्‍यों किया जाता है?

आरक्षण की मांग को नकारते हुए बीजेपी नेता सुब्रमण्यम स्‍वामी ने कहा कि मुस्लिम समुदाय को आरक्षण की नहीं बल्कि सकारात्‍मक प्रोत्‍साहन की जरूरत है. उन्होंने कहा कि मुस्लिमों ने 800 साल तक देश में राज किया है, ऐसी कौम को कभी आरक्षण नहीं मिलना चाहिए.

स्‍वामी को जवाब देते हुए ओवैसी ने कहा कि संविधान में इसकी व्‍यवस्‍था की गई है, लिहाजा हम इस हक को लड़कर लेंगे.

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें