kasmii

नईदिल्ली: कांग्रेस नेता मुहम्मद उमर कासमी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर केरलवासियों के साथ भेदभाव करने का गंभीर आरोप लगाया है। वह भी ऐसी स्थिति में जब वे बीते 100 साल की सबसे भीषण बाढ़ का सामना कर रहे है। उन्होने कहा कि अपने प्रचार-प्रसार के विज्ञापनों पर 5000 करोड़ रुपये खर्च करने वाले मोदी ने केरल के लोगों के लिए मात्र 500 करोड़ रुपये देकर उनसे बड़ा ‘सौतेला व्यवहार’ किया।

उन्होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से इस केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित करने की मांग करते हुए कहा कि केरलवासियों को दो हजार करोड़ रुपये की अंतरिम राहत दी जाए। उन्होने कहा कि मोदी देश की जनता के टेक्स के पैसों को अपने  प्रचार-प्रसार के लिए बर्बाद कर सकते है तो उन्हे बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए भी दरियादिली दिखानी चाहिए।

screenshot 3

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

कासमी ने बताया कि ‘‘प्रधानमंत्री ने केरल की बाढ़ को राष्ट्रीय आपदा घोषित इसलिए नहीं कर रहे है क्योंकि ऐसा होने पर  केंद्र को राष्ट्रीय आपदा कोष बनाना पड़ेगा और इसमें 75 फीसदी खर्च केंद्र को देना होगा।’’ जिससे मोदी बचने की कोशिश कर रहे है।

कांग्रेस नेता ने बताया कि केरल में बाढ़ और भूस्खलन में कम से कम 216 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 7.24 लाख विस्थापित लोगों ने राहत शिविरों में शरण ले रखी है। केरल सरकार ने बाढ़ से कुल 19,500 करोड़ रुपये का नुकसान होने का अनुमान लगाया है।

कासमी ने देशवासियों से भी बाढ़ पीड़ितों के लिए हर मुमकिन मदद करने की अपील की। उन्होने बताया कि कांग्रेस की और से  ‘राजीव गांधी नेशनल रिलीफ एण्ड वेलफेयर ट्रस्ट’ के जरिए मदद की जा रही है। इसके अलावा कॉंग्रेस के सभी विधायकों और सांसदों ने अपना एक माह का वेतन बाढ़ पीड़ितों के लिए समर्पित किया है।

Loading...