naqq

naqq

कश्मीर समस्या को लेकर केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि अगर मोदी सरकार के शासन के दौरान कश्मीर समस्या हल नहीं होती हैं तो भूल जाइए कि कश्मीर समस्या फिर कभी हल होगी.

नकवी ने सोमवार को राष्ट्रीय राजधानी में ‘ नए भारत के निर्माण में अल्पसंख्यकों की शिरकत’ विषय पर आयोजित सम्मेलन में कहा, ‘मैं एक चीज बहुत साफ कह दूं….अगर कश्मीर की समस्या और पाकिस्तान की समस्या या फिर वे समस्याएं जो दूसरे लोग हल नहीं कर सकते, वो नरेंद्र मोदी के समय हल नहीं हुईं तो फिर भूल जाइए कि आगे कभी हल होंगी’. उन्होंने कहा, ‘ये नरेंद्र मोदी की ताकत है कि वे नवाज शरीफ के यहां शादी में पहुंच जाते हैं. कोई और जा सकता था? किसी और की हिम्मत थी कि वह (कोई प्रधानमंत्री) बिना बताए पाकिस्तान में शादी में पहुंच जाए.’

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

इस दौरान अल्पसंख्यक समुदाय की चर्चा करते हुए उन्होंने कहा कि इस वर्ग के लोगों ने देश की आजादी के पहले और बाद में राष्ट्र निर्माण में बहुमूल्य योगदान दिया है और संविधान ने उन्हें बराबरी का अधिकार दिया है. पिछली सरकार धर्मनिरपेक्षता की बात करती थी और अल्पसंख्यकों के साथ भेदभाव करती थी. अब किसी के साथ कोई भेदभाव नहीं किया जाता है और लोग शिक्षा एवं रोजगार के अवसर प्राप्त करने के तरीकों को जान गए हैं.

नकवी ने कहा, ‘‘मोदी सरकार ने अपने लगभग पिछले 3 वर्षों के दौरान जो विकास कार्य किये हैं उसका सबसे ज्यादा फायदा गरीब तबकों को ही हुआ है जिसमें बड़ी संख्या में अल्पसंख्यक समुदाय के लोग भी शामिल हैं. यह सरकार सम्मान के साथ सशक्तीकरण के लिए प्रतिबद्ध है और इसी को लेकर काम हो रहा है.

नयी हज नीति की तारीफ करते हुए नकवी ने कहा, ‘‘नयी हज नीति की कुछ लोगों ने आलोचना की है, जो समझ से परे है. मैं सिर्फ इतना कहना चाहता हूं कि नयी हज नीति से देश के गरीब मुसलमानों को बहुत फायदा होने वाला है. आने वाले समय में हज यात्रियों के लिए सहूलियतें बढ़ेंगी.