नई दिल्ली: निजामुद्दीन मरकज के मामले को लेकर जारी बहस के बीच जम्मू-कश्मीर के पूर्व सीएम उमर अब्दुल्ला ने कहा है कि कोरोना फैलाने का दोष मुस्लिमों कि सिर नहीं मढ़ा जाना चाहिए। उन्होने तंज़ कसते हुए कहा, जैसे मुस्लिमों ने ही कोरोना को पैदा किया और पूरी दुनिया में फैला दिया।

उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट कर लिखा कि ‘अब कुछ लोगों के लिए तबलीगी जमात सबसे आसान बहाना बन जाएगा कि वे हर जगह मौजूद मुस्लिमों को गाली दे सकें, जैसे मुस्लिमों ने ही कोरोना पैदा किया हो और पूरी दुनिया में फैला दिया हो। देश के ज्यादातर मुसलमानों ने सरकारी नियमों और सलाहों का ठीक उसी तरह पालन किया है, जैसे कि किसी और ने किया।’

उमर अब्दुल्ला ने एक और ट्वीट में लिखा, ‘वे लोग किसी भी वायरस से खतरनाक हैं, जो तबलीगी वायरस जैसे हैशटैग के साथ ट्वीट कर रहे हैं। उनके शरीर तो ठीक हैं लेकिन दिमाग बहुत बीमार है।’ उमर अब्दुल्ला ने मध्य प्रदेश के सीएम शिवराज सिंह चौहान के शपथ ग्रहण समारोह की तस्वीर भी रीट्वीट करके निशाना साधा है। शपथ ग्रहण समारोह में शिवराज सिंह चौहान के साथ सैकड़ों विधायक इकट्ठा हुए थे।

वहीं केंद्रीय मंत्री मुख़्तार अब्बास नक़वी ने निज़ामुद्दीन के तबलीग़ी जमात मरकज़ मामले पर कहा है कि उन्होंने तालिबानी अपराध किया है जिसे माफ़ नहीं किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि तबलीग़ी जमात मरकज़ ने सभी लोगों की जान को ख़तरे में डाला और उन लोगों और संगठन के ख़िलाफ़ कार्रवाई की जानी चाहिए जिन्होंने सरकार के निर्देशों का पालन किया।

कोरोना वायरस से दुनिया में आठ लाख 57 हज़ार से अधिक लोग संक्रमित हैं। जबकि मरने वालों का आंकड़ा 42 हज़ार के पार पहुंच चुका है। संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटरेश ने कोरोना वायरस संक्रमण को द्वितीय विश्व युद्ध के बाद की सबसे बड़ी चुनौती कहा है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन