आल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुली मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने सोमवार को कहा कि मुसलमानों को आगे आकार राजनीति मे शामिल होना चाहिए और अपने भविष्य का फैसला खुद को करना चाहिए।

ओवैसी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि, ‘‘ मुसलमानों को सचाई स्वीकार करनी चाहिए, जहर के इस घूंट को पीना चाहिए, खड़े होना चाहिए, वापस लड़ना चाहिए, राजनीति में शामिल होना चाहिए।’’

उन्होंने अपने ट्वीट के साथ आखिरी मुग़ल बादशाह बहादुर शाह जफर की लिखी उर्दू गजल ‘ना किसी की आंख का नूर हूं, ना किसी के दिल का करार हूं’ की कुछ पंक्तियां भी लिखीं।

ओवैसी ने उर्दू अखबार में छपी उस खबर का भी बचाव भी किया। जिसमे कहा गया था कि पिछले सप्ताह मुस्लिम विद्वानों के साथ बैठक के दौरान राहुल गांधी ने काँग्रेस को मुस्लिमों की पार्टी बताया था।