योगी सरकार को लेकर बोली मायावती – भाजपा सरकार में हो रहा मुस्लिम और ब्राम्हणों का उत्पीड़न

लखनऊ: बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने कहा कि सपा सरकार में जिस तरह सपा सरकार में जिस तरह ब्राह्मणों व दलितों का चुन-चुन कर उत्पीड़न किया गया था, अब वैसे ही भाजपा सरकार में इनके साथ-साथ मुसलमानों का भी काफी उत्पीड़न किया जा रहा है।

मायावती ने शुक्रवार को ट्विटर के माध्यम से लिखा, “सपा सरकार में जैसे ब्राह्मणों व दलितों का चुन-चुन कर उत्पीड़न किया गया था तो अब वैसे ही वर्तमान भाजपा सरकार में भी इनके साथ-साथ मुसलमानों का भी काफी उत्पीड़न किया जा रहा है। इनको जबरन् गलत मामलों में फंसाया जा रहा है, जो अति दु:खद है।

उन्होंने आगे लिखा, “जिस प्रकार से सपा सरकार में दलितों के मसीहा बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर व इनके महान् सन्तों व गुरुओं की मूर्ति तोड़ी गई तथा उनके नाम पर रखे गए जिलों व संस्थानों आदि के नाम भी बदल दिए गए, ठीक उसी प्रकार से अब वर्तमान भाजपा सरकार भी चल रही है। अब तो उनके मसीहा बाबा साहेब डॉ. भीमराव अम्बेडकर की भी मूर्ति तोड़ी जा रही है, जिसके पहले वाराणसी की व अब जौनपुर की घटना अति-निन्दनीय। सरकार इस मामले में उचित कदम उठाये। बसपा की यह मांग है।”

मायावती के आरोपों पर भाजपा प्रदेश प्रवक्ता नवीन श्रीवास्तव ने कहा कि शायद मायावती अपना नारा भूल गई हैं, जिस नारे के साथ बसपा सत्ता में आई थी। लेकिन सभी ने बाद में उसका हश्र देखा, बड़े-बड़े माफिया बसपा में शामिल हुए, आज जब योगी सरकार अपराधियों पर कार्रवाई कर रही है तो बसपा सुप्रीमो को धर्म जाती मजहब याद आ रहा है। बीजेपी नेता ने कहा कि जनता ने 2014, 2019 में बता दिया है कि प्रदेश में जाति पाती पंथ का कोई मतलब नहीं रह गया है।

वहीं सपा के पूर्व मंत्री व प्रदेश प्रवक्ता अभिषेक मिश्रा ने सीधे मायावती पर हमला करने की बजाय अपने पांच साल के कार्यकाल की उपलब्धियां गिनवाई, सपा नेता ने कहा आज भी उत्तर प्रदेश के लोग सपा कार्यकाल में किए गए कामों को याद करते हैं।

उधर, कांग्रेस ने बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि मायावती खोते जनाधार से परेशान हैं। कांग्रेस नेता अशोक सिंह ने पूछा कि आखिर तब मायावती कहां थी जब दलितों के घर टूट रहे थे उन पर अत्याचार हो रहे थे। कांग्रेस नेता ने निशाना साधते हुए कहा कि खोता हुआ जनाधार और जनता में विश्वास ने आज मायावती को चिंता में डाल दिया है।

विज्ञापन