Tuesday, January 25, 2022

त्रिपुरा के मुस्लिम देशभक्त, विभाजन के बाद नहीं गए पाकिस्तान: शाहनवाज हुसैन

- Advertisement -

त्रिपुरा में विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान हो चूका है. ऐसे में अब बीजेपी की नजर राज्य के 8 फीसदी मुस्लिम वोटों पर है. जिनको मनाने की जिम्मेदारी बीजेपी के वरिष्ठ नेता और प्रवक्ता शाहनवाज हुसैन को मिली है.

मुस्लिम बहुल बोक्सा नगर निर्वाचन क्षेत्र से बीजेपी के उम्मीदवार के समर्थन में रैली करने पहुंचे शाहनवाज हुसैन ने त्रिपुरा के मुसलमानों को देशभक्त करार देते हुए कहा कि त्रिपुरा का मुसलमान देशभक्त है. क्योंकि वह विभाजन के बाद पाकिस्तान नहीं गया.

उन्होंने कहा, ‘साल 1947 में जब आजादी मिली उस वक्त मुस्लिम पूर्वी पाकिस्तान में नहीं गए, त्रिपुरा में ही रहे, क्योंकि वह देशभक्त हैं.’ हुसैन ने आगे कहा कि त्रिपुरा की बांग्लादेश के साथ लंबी सीमा है और बॉर्डर पर रहने वाले बहुत से मुसलमानों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन मुख्यमंत्री माणिक सरकार ने कभी भी उनकी समस्याओं को केंद्र सरकार के सामने नहीं रखा.

बीजेपी नेता ने सत्तारूढ़ पार्टी सीपीआई (एम) पर निशाना साधते हुए कहा कि  ‘यूएसएसआर के खत्म होने से पहले बहुत से मुस्लिम बहुल देशों जैसे कजाकस्तान और उजबेकिस्तान में कम्यूनिस्टों ने मस्जिदों को गिरा दिया था.’ हुसैन ने कहा कि बीजेपी ने देश के कई ऐसे इलाकों में जहां मुसलमानों की संख्या काफी ज्यादा है, वहां जीत हासिल की, क्योंकि मुसलमानों ने पार्टी का समर्थन किया.

हुसैन ने आगे कहा, ‘हिंदू हमारे बेस्ट फ्रेंड हैं. हम सभी मुसलमानों को गर्व होना चाहिए कि हम भारत में पैदा हुए. आपको कहीं भी हिंदुओं जैसा दोस्त और भारत जैसा देश नहीं मिलेगा. इस दौरान उन्होंने बीजेपी को धर्मंनिरपेक्ष पार्टी करार दिया.

उन्होंने कहा, ‘बीजेपी केवल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पार्टी नहीं है, वह शाहनवाज हुसैन की भी पार्टी है. यह आम लोगों की पार्टी है. यह सांप्रदायिक पार्टी नहीं बल्कि धर्मनिरपेक्ष पार्टी है.’

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles