उत्तरप्रदेश विधानसभा चुनावों में बीजेपी की जीत के बाद राज्य की सरकार में सबसे बड़े अल्पसंख्यक समुदाय की हिस्सेदारी को लेकर संशय बना हुआ हैं. दरअसल बीजेपी ने किसी भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकिट नहीं दिया तो ऐसे में सवाल उठ रहा हैं कि सरकार में अल्पसंख्यक समुदाय को किस तरह से हिस्सेदारी मिलेगी.

टाइम्स ऑफ़ इंडिया को इंटरव्यू देने के दौरान केंद्रीय शहरी विकास मंत्री वेंकैया नायडू इस मसले पर कहा कि ‘अगर यूपी में इस बार भाजपा के पास कोई मुस्लिम विधायक नहीं है तो क्या हुआ, हम विधान परिषद के मुस्लिम सदस्य को सरकार में शामिल करेंगे.’

उन्होंने बताया कि मुस्लिमों के कई तबके खासकर महिलायें और युवा पीएम मोदी के विकासवादी एजेंडे और तीन तलाक पर पार्टी के रुख को लेकर काफी खुश हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

 403 विधानसभा सीटों पर एक भी मुस्लिम उम्मीदवार को टिकिट नहीं दिए जाने के सवाल पर नायडू ने कहा कि इस बार पार्टी को कोई ऐसा मुस्लिम उम्मीदवार नहीं मिल सका जो चुनाव जीत सके.

Loading...