गौरक्षकों के आ’तंक के आगे मुस्लिम डर से जीने को हो रहे मजबूर: ओवैसी

कथित गोरक्षा के नाम पर जारी हिं’सा को लेकर एक बार फिर से ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (All India Majlis-e-Ittehadul Muslimeen) के प्रमुख असदुद्दीन औवेसी ने केंद्र की मोदी सरकार को निशाने पर लिया है। ओवैसी ने कहा कि गोरक्षकों के आतंक के आगे मुसलमान डर से जीने को मजबूर हो रहे हैं।

गुरुवार को किए ओवैसी ने अपने ट्वीट में लिखा “गोरक्षकों का आतंक मुसलमानों को ज़िन्दगी का खतरा महसूस करने के लिए मजबूर कर रहा है। इस भीड़ पर तुरंत मुकदमा चलाकर उन्हें सज़ा दी जानी चाहिए। इसके बजाय केंद्र सरकार के कुछ मंत्रियों द्वारा इन्हें मालाएं पहनाई गईं, और अन्य के मुकदमों में गड़बड़ियां की गईं, जिससे वे बरी हुए. ज़ाहिर है, इससे उनकी हिम्मत बढ़ेगी।”

बता दें कि हाल ही में ईद उल अज़हा पर दिल्ली से सटे गुड़गांव में शुक्रवार को गोरक्षकों ने एक मीट सप्लायर को हथौड़े से बुरी तरह पीटा था। पीड़ित की पहचान मेवात के एक मीट सप्लायर लुकमान (25) के रूप में हुई थी। इस संबंध में एक वीडियो भी सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था, जिसमें कुछ कथित गोरक्षक लुकमान को पीट रहे हैं। इस वीडियो में पुलिस भी मौजूद दिख रही है।

इस मामले में एआईएमआईएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर तंज कसा था। ओवैसी ने कहा कि ‘प्रधानमंत्री ने बकरीद पर हमें करुणा और समावेशी जैसे शब्दों से बधाई दी। कल ही उनके वैचारिक फूट सोल्जरों ने लुकमान को हथौड़े से मारा और उसे जेएसआर कहने पर मजबूर किया। लुकमान का अर्थ होता है एक ज्ञानवान आदमी। उम्मीद करता हूं कि पीएम लुकमान से सीख सकते हैं कि एक न्यायप्रिय समाज कैसा होता है।’

पीड़ित लुकमान ने बताया कि वह शुक्रवार सुबह नौ बजे सेक्टर 4-5 चौक पर पहुंचा था। उसकी पिकअप वैन में भैंस का मांस लदा हुआ था कि तभी पांच दोपहिया वाहनों पर सवार कुछ युवकों ने उसका पीछा करना शुरू किया। लुकमान ने बताया, ‘वे लगभग आठ से दस लोग थे। वे मुझे गाड़ी रोकने को कह रहे थे। अपनी सुरक्षा को देखते हुए मैंने गाड़ी की रफ्तार बढ़ा दी। सदर बाजार में मेरी गाड़ी को रोककर मुझे गाड़ी से बाहर निकाला गया।

उन्होंने लोहे की रॉड से यह कहकर मेरी पिटाई की कि मैं गोमांस ले जा रहा हूं। लुकमान ने बताया कि जैसे ही लोगों की भीड़ और कुछ पुलिसकर्मी इकट्ठा होने शुरू हुए, उन्होंने मुझे ट्रक में बैठाया और मुझे सोहना लेकर गए। इस दौरान पुलिस की टीम ने ट्रक का पीछा किया और लुकमान को बचाया। इन हमलावरों ने पुलिस पर भी हमला किया और फरार होने से पहले उनके वाहन को तोड़ दिया। पुलिस लुकमान को अस्पताल लेकर गई।

विज्ञापन