इस्लाम धर्म और मुस्लिमों के खिलाफ आपत्तिजनक बयान देने वाले मोदी कैबिनेट के मंत्री अनंत कुमार हेगड़े ने अब दलितों को कुत्ता कहकर नया विवाद पैदा कर दिया है.

कर्नाटक के बेल्लारी में एक रोजगार मेले में जाने के दौरान दलितों द्वारा रोके जाने और विरोध-प्रदर्शन किये जाने से नाराज हेगड़े ने कहा कि ‘हम आपकी मदद करने के लिए दृढ़संकल्पित हैं, हम आपके साथ रहेंगे चाहे कुछ भी हो जाए, हम लोग अपने लोगों की रक्षा के लिए कुछ भी करेंगे, हमलोग विरोध प्रदर्शन करने वाले कुछ गली के कुत्तों में फंसने वाले नहीं है.’

दरअसल दलित समुदाय के लोग हाल ही में हेगड़े के द्वारा संविधान को बदलने को लेकर दिए गए बयान पर प्रदर्शन कर रहे थे. जिसको लेकर हेगड़े माफ़ी मांग चुके है. हेगड़े ने अपने बयान में कहा था, लोगों को अपनी पहचान सेक्युलर के बजाय धर्म और जाति के आधार पर बतानी चाहिए. हम संविधान में संशोधन कर सेक्युलर शब्द हटा सकते हैं.

इस मामले में अब कांग्रेस ने कहा कि बीजेपी को अल्पसंख्यकों के मुद्दे पर अपना रुख स्पष्ट करना चाहिए और इसे अपने घोषणापत्र में डालना चाहिए. एनटीडीवी से बात करते हुए कांग्रेस नेता टॉम वडक्कन ने कहा, ‘यही वो चीज है जिसके खिलाफ दलित सालों से लड़ रहे थे, इस शख्स को कैबिनेट में रहने का कोई हक नहीं.’

वहीँ हेगड़े ने सफाई पेश करते हुए कहा कि उनकी टिप्पणी की गलत व्याख्या की गई है और कांग्रेस उनकी छवि को खराब करने की कोशिश कर रही है. उन्होंने कहा, ‘मेरा यह बयान उन लोगों के लिए था जो मेरे रवैये की आलोचना कर रहे थे.’