जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने शनिवार को दिल्ली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात के बाद पत्रकारों से बात करते हुए महबूबा मुफ़्ती ने कहा, “नरेंद्र मोदी चाहेंगे तो कश्मीर में ख़ून ख़राबा रुक जाएगा. उनके साथ भारत की सभी सियासी पार्टियां इस मुद्दे पर एकजुट हैं. सभी चाहते हैं कि कश्मीर में शांति बहाल हो.” उन्होंने आगे कहा कि मोदी जी के पास दो तिहाई बहुमत है. अगर उनके रहते कश्मीर में कुछ नहीं होता तो कभी कुछ नहीं होगा.

मीडिया से मुखातिब होते हुए उन्होंने कहा कि पीएम कश्मीर के हालात को लेकर चिंतित हैं. कश्मीर समस्या का हल खोज जाए. उन्होंने कहा- लगता है कहीं-न-कहीं कुछ जमा हुआ है. कर्फ्यू का मकसद यह है कि लोगों की जान बची रहे, इसलिए कर्फ्यू लगाया गया. यदि हम कर्फ्यू न लगाएं तो क्या करें.

महबूबा ने मीडिया से अपील की माहौल को बेहतर करने के लिए सहयोग करें. उन्होंने कहा- मैं जम्मू कश्मीर के उन नौजवान लड़कों से अपील करती हूं कि आप मुझसे नाराज़ हो सकते हैं, मैं आपसे नाराज़ हो सकती हूं लेकिन मुझे एक मौका दीजिए. मेरी मदद कीजिए.

महबूबा ने पीडीपी-भाजपा गठबंधन के वाजपेयी की कश्मीर नीति पर आधारित होने और उसे आगे बढ़ाने की बात कहते हुए याद किया कि उनके पिता एवं पूर्व मुख्यमंत्री मुफ्ती मोहम्मद सईद ने कहा था कि कश्मीर मुद्दे का हल हो सकता है, इसका हल केवल वह प्रधानमंत्री कर सकते हैं जिनके पास दो तिहाई बहुमत हो.

उन्होंने कहा, ‘अगर उनके (मोदी) कार्यकाल में ऐसा नहीं हुआ तो फिर यह कभी नहीं होगा. मेरा मानना है कि वहां (पाकिस्तान) जाने का साहसी कदम उठाने वाले मोदीजी आज फिर कहेंगे कि हमें अपने खुद के लोगों से बात करनी चाहिए, क्योंकि लोग मारे जा रहे हैं.’

कोहराम न्यूज़ को सुचारू रूप से चलाने के लिए मदद की ज़रूरत है, डोनेशन देकर मदद करें




Loading...

कोहराम न्यूज़ की एंड्राइड ऐप इनस्टॉल करें