भारत-चीन सीमा विवाद के बीच चीनी बैंकों से गुपचुप कर्ज लेने का आरोप लगाकर कांग्रेस मोदी सरकार पर हमलावर हो गई है। कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने सवाल  उठाते हुए कहा कि ‘‘मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ? इतना डर किस बात का?’’

उन्होने ट्वीट किया,  ‘‘आप क्रोनोलॉजी समझिए। प्रधानमंत्री बोले कि कोई सीमा में नहीं घुसा। फिर चीन-स्थित बैंक से भारी क़र्ज़ा लिया। फिर रक्षामंत्री ने कहा चीन ने देश में अतिक्रमण किया। अब गृह राज्य मंत्री ने कहा अतिक्रमण नहीं हुआ।’’ उन्होंने सवाल किया, ‘‘मोदी सरकार भारतीय सेना के साथ है या चीन के साथ? इतना डर किस बात का?’’

वहीं कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सिंह सुरजेवाला ने कहा कि गलवान घाटी में सैनिक कुर्बानी देते हैं, सेना सीना ताने जान हथेली पर लिए खड़ी है। ऐसे में…. मोदी जी ऐप्स बैन कर तो वाहा-वाही लूटते हैं और चीन की सरकार के बैंक से गुपचुप कर्ज लेते हैं। यही है झूठी राष्ट्र भक्ति, नहीं चाहिए चीन का पैसा, देश के स्वाभिमान पर समझौता मंजूर नहीं।’

कांग्रेस प्रवक्ता ने अंग्रेजी अखबार द टेलीग्राफ की खबर का एक स्क्रीन शॉट भी शेयर किया है। जिसके मुताबिक मोदी सरकार ने औपचारिक रूप से पुष्टि की है कि भारत ने सीमा पर गतिरोध के बीच चीन नियंत्रित बैंक से 1,350 मिलियन डॉलर (करीब 9,202 करोड़ रुपए) के कुल दो कर्ज लिए।

19 जून को प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (PMGKY) के तहत किए गए उपायों का समर्थन करने के लिए एशियन इन्फ्रास्ट्रक्चर इन्वेस्टमेंट बैंक (AIIB) के साथ 750 मिलियन डॉलर (करीब 5,521 करोड़ रुपए) के एक कर्ज समझौते पर हस्ताक्षए हुए। हालांकि इससे ठीक चार दिन पहले 15 जून को गलवान घाटी में भारत-चीन सीमा विवाद के बीच देश के 20 सैनिक शहीद हुए थे।

Loading...
विज्ञापन
अपने 2-3 वर्ष के शिशु के लिए अल्फाबेट, नंबर एंड्राइड गेम इनस्टॉल करें Kids Piano