सिंगर अदनान सामी को पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किए जाने को लेकर महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (एमएनएस) ने आपत्ति जाहिर की है। एमएनएस ने अदनान सामी से पद्म श्री सम्मान वापस लेने की मांग की है।

MNS की ओर से कहा गया कि अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार देने में इतनी जल्दबाजी क्यों की गई है। पार्टी की सिनेमा विंग के प्रमुख अमय खोपकर ने ट्वीट किया, ‘अदनान सामी मूल रूप से भारतीय नहीं हैं. एमएनएस का मानना है कि उन्हें कोई अवॉर्ड नहीं दिया जाना चाहिए। हम उन्हें पद्मश्री दिए जाने के फैसले का विरोध करते हैं। हमारी मांग है कि उनसे ये सम्मान वापस लिया जाए।’

पद्म श्री पुरस्कार की घोषणा होने के बाद अदनान सामी ने भारत सरकार को शुक्रिया कहा है। एक ट्वीट में उन्होंने कहा कि किसी भी कलाकार के लिए वह महान क्षण होता है, जब उसे उसकी सरकार पहचानती है। मैं बेहद खुश हूं और बहुत आभारी हूं कि मुझे पद्म श्री सम्मान दिया जा रहा है। मुझे संगीत की दुनिया काम करते हुए 34 साल हो गए। बहुत शुक्रिया।

दूसरी ओर अदनान सामी को पद्मश्री से सम्मानित किए जाने पर केंद्र सरकार में नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने बधाई दी। पुरी ने ट्टीट किया, प्रतिभाशाली अदनान सामी को पद्मश्री पुरस्कार से सम्मानित होने पर बधाई। वह उन अनेकों में से एक हैं, जिन्होंने भारत के संविधान में आस्था जताई और भारतीय नागरिकता दी भी गई। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि मुझे उम्मीद है कि शाहीन बाग सुन रहा है।

सामी को इस सम्मान से नवाजे जाने की वजह से केंद्र सरकार को ट्रोल भी किया जा रहा है। कई यूजर्स ने लिखा कि उनके पिता 1965 की जंग में पाकिस्तानी सेना के लिए हीरो थे, इसके बावजूद सामी को पद्मश्री से नवाजा जा रहा है।

Loading...
लड़के/लड़कियों के फोटो देखकर पसंद करें फिर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें

 

विज्ञापन