पुलवामा आतंकी हमले के 5 दिन बाद पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि अगर भारत सबूत देगा तो हम कार्रवाई करेंगे। इस बयान का जम्मू कश्मीर की पूर्व सीएम महबूबा मुफ्ती ने समर्थन किया है।

बुधवार को महबूबा मुफ्ती ने कहा कि यह बात सही है कि पठानकोट से लेकर मुंबई हमले तक के सबूत पाकिस्तान को दिए गए थे लेकिन पाकिस्तान ने कोई कार्रवाई नहीं की। उन्होंने कहा कि लेकिन इमरान खान पाकिस्तान के नए पीएम हैं और उन्हें एक और मौका दिया जाना चाहिए।

Loading...

महबूबा मुफ्ती ने कहा, ‘इस समय सिर्फ अनपढ़ लोग ही युद्ध की बात कर सकते हैं। दोनों ही देशों के पास न्यूक्लियर पावर हैं, दोनों के पास बातचीत करने का मौका है। मुझे नहीं लगता कि युद्ध का सवाल उठता है।’

पूर्व मुख्यमंत्री और पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी की अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती का कहना है कि बिना सुबूतों के पाकिस्तान को पुलवामा हमले के लिए दोषी नहीं ठहराया जा सकता। पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान को बातचीत के लिए आगे आना चाहिए।

मंगलवार को पीडीपी अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा था कि पाकिस्तान को बिना किसी सबूत के दोषी नहीं ठहराया जा रहा है। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट किया था, ‘मैं सहमत नहीं हूं। पाकिस्तान को पठानकोट का डोजियर दिया गया था लेकिन अपराधियों को दंडित करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया गया।’

साथ ही महबूबा मुफ्ती ने लिखा, ‘टाइम टू वॉक द टॉक। लेकिन पाकिस्तान के प्रधानमंत्री को एक मौका मिलना चाहिए क्योंकि उन्होंने हाल ही में पद संभाला है। बेशक चुनावों की तुलना में युद्ध संबंधी बयानबाजी अधिक हो रही है।’

शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें