Tuesday, January 25, 2022

महबूबा मुफ्ती ने ट्वीट कर पूछा – कश्मीरियों की जिंदगी से अहम हैं आरे के पेड़

- Advertisement -

मुंबई मेट्रो के लिए ढाई हजार से ज्यादा पेड़ों की कटाई के विवाद में अब जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती भी शामिल हो चुकी है। उन्होने कहा कि ‘कश्मीरियों की जिंदगी से भी बड़े हैं आरे कॉलोनी के पेड़।’

इस दौरान महबूबा ने कश्मीरियों को अभिव्यक्ति की आजादी नहीं दिए जाने का आरोप लगाया। महबूबा ने इस ट्वीट में लिखा ‘खुश हूं कि आंदोलनकारी आरे में पेड़ों की कटाई रुकवाने में सफल रहे। एक आश्चर्य यह है कि आखिर कश्मीरियों को ऐसी ही बोलने और अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता क्यों नहीं है? भारत सरकार दावा करती है कि कश्मीरी अब अन्य भारतीयों के समान हो गए हैं। लेकिन सच यह है कि उन्होंने यहां के लोगों के मूलभूत अधिकारों को भी कम कर दिया है।’

महबूबा मुफ़्ती का ये ट्वीट सुप्रीम कोर्ट के महाराष्ट्र सरकार को पेड़ों की कटाई पर रोक लगाने के निर्देश देने के बाद आया है। बता दें कि मुंबई के आरे कॉलोनी में मेट्रो कार शेड बनाया जाना है। इसके लिए BMC ने आरे के जंगल में 2700 पेड़ों को काटने की अनुमति जारी कर दी थी। इसका पर्यावरण के लिए काम कर रहे कार्यकर्ताओं द्वारा विरोध किया गया था।

एक एनजीओ ने इस आदेश के खिलाफ बॉम्बे हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी, जिसे कोर्ट द्वारा खारिज कर दिया गया था। इसके बाद आरे के जंगल में पेड़ करने का सिलसिला शुरू हो गया था। जिसका लोगों द्वारा विरोध किया जा रहा था। दिन पर दिन विरोध तेज हो रहा था।

इस बीच पेड़ों को बचाने के लिए सुप्रीम कोर्ट को चिट्ठी लिखी गई थी। सुप्रीम कोर्ट ने इस चिट्ठी पर संज्ञान लेते हुए इसे ही जनहित याचिका मानते हुए इस मामले पर आज सुनवाई की। सुनवाई के बाद कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार को फटकार लगाते हुए फिलहाल पेड़ों की कटाई पर रोक लगा दी है।

इसके अलावा सुप्रीम कोर्ट ने महाराष्ट्र सरकार से अभी की ताजी रिपोर्ट भी मांगी है और साथ ही सख्त लहजे में ये भी कहा है कि जो भी गलत है, वो गलत है। अभी 21 अक्टूबर तक वहां पर यथास्थिति बनी रहेगी।

- Advertisement -

[wptelegram-join-channel]

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles