कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने मदरसों को नफरत फैलाने के जरिया करार दिया हैं, साथ ही उन्होंने मदरसों की तुलना आरएसएस द्वारा संचालित स्कूल सरस्वती शिशु मंदिर से की हैं.

उन्होंने ट्वीट कर कहा कि क्या आरएसएस द्वारा संचालित सरस्वती शिशु मंदिर और मदरसों में कोई फर्क हैं, मुझे नहीं लगता हैं, दोनों ही नफरत फैलाते हैं.

मुस्लिम परिवार में शादीे करने के इच्छुक है तो अभी फोटो देखकर अपना जीवन साथी चुने (फ्री)- क्लिक करें 

दिग्विजय सिंह के इस बयान के बाद कांग्रेस की तथाकथित धर्मनिरपेक्ष की छवि का पर्दाफाश हो गया हैं, मुस्लिम समुदाय में इस बयान को लेकर काफी गुस्सा हैं.

तेलेंगाना और आंध्र प्रदेश से जमीअत-ए-उलमा हिन्द के प्रमुख  हाफिज पीर शब्बीर ने इस बयान की आलोचना करते हुए कहा कि ” मैं चाहता हूँ की वो (दिग्विजय सिंह) मुझे दिखाए की किस मदरसे में हथियारों रखे गए है? यह एक बड़ी साजिश का हिस्सा है.

Loading...