Tuesday, September 28, 2021

 

 

 

मायावती ने एमपी-राजस्थान में कांग्रेस से समर्थन वापस लेने की धमकी, ये है बड़ी वजह

- Advertisement -
- Advertisement -

नई दिल्ली। बसपा सुप्रीमो मायावती ने राजस्थान और मध्य प्रदेश की कांग्रेस सरकार से समर्थन वापस लेने की धमकी दी है। बीएसपी सुप्रीमो ने कहा है कि बीजेपी के शासनकाल में राजनीतिक और जातिगत द्वेष के कारण इन राज्यों में लोगों के खिलाफ दर्ज मुकदमें वापस लिए जाएं नहीं तो बसपा दोनों राज्यों में अपना समर्थन वापस ले लेगी।

बसपा की ओर से जारी प्रेस रिलीज में कहा गया है, ‘2 अप्रैल 2018 को भारत बंद के दौरान एससी/एसटी एक्ट 1989 के तहत राजस्थान और मध्यप्रदेश में जो केस दर्ज किया गया था उसे वापस लिया जाए, नहीं तो हमारी पार्टी कांग्रेस से समर्थन वापस ले लेगी।’ इसके साथ ही कांग्रेस को सलाह दी गई है कि एमपी, राजस्‍थान और छत्‍तीसगढ़ सरकार किसानों व बेरोजगारों के लिए फौरन उचित कदम उठाए।

बता दें कि दो दिन पूर्व ही मध्य प्रदेश के विधि एवं विधायी कार्य मंत्री पीसी शर्मा ने कहा था कि पूर्व की बीजेपी सरकार में कांग्रेस नेताओं और कार्यकर्ताओं के खिलाफ राजनीति से प्रेरित होकर दर्ज कराए गए केस वापस लिए जाएंगे।

पीसी शर्मा ने कहा था, ‘मैं अपने विभाग के प्रमुख सचिव से जल्द ही इस मामले में प्रस्ताव तैयार करने को लेकर बात करूंगा। प्रस्ताव तैयार होने के बाद आगे की कार्रवाई के लिए सीएम कमलनाथ के समक्ष पेश किया जाएगा।’ उन्होंने कहा था कि आंदोलनों में शामिल होनेवाले सरकारी कर्मचारियों और नेताओं के खिलाफ दर्ज मामलों को वापस लेने पर विचार किया जाएगा।

ध्यान रहे मध्य प्रदेश में कुल 230 विधानसभा सीटें हैं और सरकार बनाने के लिए कम से कम 116 विधायकों की जरूरत होती है लेकिन कांग्रेस के 114 विधायक हैं और उसे बसपा के 2, सपा के 1 और 4 निर्दलीय विधायकों का समर्थन मिला हुआ।

इसी तरह राजस्थान में कुल 200 विधानसभा सीटें हैं जिनमें 199 पर चुनाव हुआ है, 200 विधायकों के सदन में सरकार बनाने के लिए 101 विधायकों की जरूरत होती है लेकिन कांग्रेस के 99 विधायक हैं और उसे बहुजन समाजपार्टी के 6 विधायकों का समर्थन भी मिला हुआ है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Hot Topics

Related Articles